निदेशक मंडल

स्थापना के बाद से ही एक्ज़िम बैंक का नेतृत्व करने वाली शख्सियतों ने हमारे अनूठे दृष्टिकोण और अनुभव को समृद्ध बनाने वाली नीतियों को लागू किया है| उन्होंने मार्गदर्शक के रूप में हमें आगे बढ़ाया है और आज भी भविष्य का रास्ता दिखा रहे हैं|

भारत सरकार का प्रतिनिधित्व करने वाले निदेशक

अन्य संस्थाओं और वाणिज्यिक बैंकों से निदेशक

पूर्णकालिक निदेशक

भारत सरकार का प्रतिनिधित्व करने वाले निदेशक

श्री दम्मू रवि

सचिव (ईआर)

विदेश मंत्रालय

श्री दम्मू रवि ने 1989 में भारतीय विदेश सेवा में अपना पदभार ग्रहण किया। आपने वर्ष 1991 से 2001 तक मेक्सिको, क्यूबा, ब्रसेल्स स्थित भारतीय मिशनों में विभिन्न पदों पर रहते हुए कार्य किया। आपने 2001 से 2006 तक विदेश मंत्रालय के मुख्यालय में पश्चिम यूरोप और संयुक्त राष्ट्र प्रभागों में उप सचिव/निदेशक के रूप में कार्य किया है। आपने मार्च 2006 से मई 2009 तक पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री के निजी सचिव के रूप में कार्य किया है। आप अक्टूबर 2009 से दिसंबर 2013 तक लैटिन अमेरिका और कैरिबियाई देशों के साथ भारतीय संबंधों का कार्यभार संभालते हुए विदेश मंत्रालय में संयुक्त सचिव रहे।

आपने जनवरी 2014 से फरवरी 2020 तक वाणिज्य मंत्रालय में संयुक्त सचिव के रूप में कार्य किया, जहां आपने व्यापार संबंधी विवादों, एनएएमए, मत्स्यपालन वार्ताओं, व्यापार नीति संबंधी समीक्षा आदि जैसे डब्ल्यूटीओ से जुड़े विषयों सहित भारत की व्यापार नीति का उत्तरदायित्व संभाला। आप नवंबर 2015 में नैरोबी (एमसी X) और दिसंबर 2017 में ब्यूनस आयर्स (एमसी X) में होने वाले डब्ल्यूटीओ मंत्रिस्तरीय सम्मेलन में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का हिस्सा रहे। आपने जी20, ब्रिक्स, राष्ट्रमंडल, एससीओ, एपेक, आईओआरए, एएसईएम, अंकटाड आदि जैसे क्षेत्रीय समूहों के साथ भारत के व्यापार तथा निवेश संबंधों का उत्तरदायित्व भी संभाला है। आप वृहद् क्षेत्रीय मुक्त व्यापार समझौते 'क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक भागीदारी (आरसीईपी)' में भारत के मुख्य वार्ताकार भी रहे हैं।

मार्च 2020 में विदेश मंत्रालय में वापसी पर आपको अपर सचिव (कोविड और यूरोप) के पद पर नियुक्त किया गया।
वर्तमान में, आप विदेश मंत्रालय में सचिव (आर्थिक संबंध) हैं।

आपने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय, दिल्ली से राजनीति विज्ञान में स्नातकोत्तर उपाधि प्राप्त की है। व्यापार संबंधी मामलों पर आपके शोध-पत्र प्रकाशित हैं:
(i) भारतीय निर्यातों का मानकीकरण,
(ii) भारतीय कृषि बाजारों का उदारीकरण
श्री दम्मू रवि शादीशुदा हैं और आपकी एक बेटी है।

भारत सरकार का प्रतिनिधित्व करने वाले निदेशक

सुश्री रूपा दत्ता

प्रधान सलाहकार

वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय

सुश्री रूपा दत्ता 1986 बैच की आईईएस अधिकारी हैं और वर्तमान में वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के उद्योग संवर्धन और आंतरिक व्यापार विभाग में प्रधान सलाहकार के रूप में कार्यरत हैं। चार वर्षों तक औद्योगिक और वित्तीय पुनर्निर्माण बोर्ड में रजिस्ट्रार के रूप में काम करने सहित आप भारत सरकार के वाणिज्य विभाग, महिला एवं बाल विकास मंत्रालय, योजना आयोग जैसे विभिन्न मंत्रालयों/विभागों में विभिन्न महत्त्वपूर्ण पदों पर रही हैं।

अप्रैल 2012 से अगस्त 2020 तक वाणिज्य विभाग में अपने कार्यकाल के दौरान, आपने व्यापार संबंधी विभिन्न विषयों, रत्न एवं आभूषण क्षेत्र के निर्यात संवर्धन पर अपने इनपुट प्रदान किए हैं। साथ ही आप भारत-कनाडा सीईपीए जैसी एफटीए वार्ताओं से जुड़ी रही हैं। यूएनएससी की पहल के तहत 2003 में किंबर्ली प्रोसेस सर्टिफिकेशन स्कीम (केपीसीएस) की बैठकों में आपने भारत का प्रतिनिधित्व किया है। अगस्त 2020 से उपभोक्ता मामले विभाग में आपका कार्यकाल आवश्यक वस्तुओं की कीमतों की निगरानी और उचित नीतिगत निर्णयों पर केंद्रित रहा।

जुलाई 2021 से आपके वर्तमान पोर्टफोलियो में, औद्योगिक विकास से संबंधित महत्त्वपूर्ण नीतिगत इनपुट प्रदान करना, मूल्य सूचकांक और औद्योगिक उत्पादन सूचकांक से संबंधित प्रासंगिक डेटा जारी करना और औद्योगिक नीतियों आदि पर फोकस शामिल है।

भारत सरकार का प्रतिनिधित्व करने वाले निदेशक

श्री रजत कुमार मिश्रा

अपर सचिव

आर्थिक कार्य विभाग, वित्त मंत्रालय, भारत सरकार

श्री रजत कुमार मिश्रा वर्तमान में आर्थिक कार्य विभाग, भारत सरकार में अपर सचिव के रूप में सेवारत हैं। यहां आप संपोषी वित्त, अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष और संयुक्त राष्ट्र संबंधी समस्त मामलों सहित सभी बहुपक्षीय और द्विपक्षीय फंडिंग एजेंसियों के साथ काम करने वाले प्रभागों के प्रभारी हैं। इसके अलावा, वर्तमान में आप न्यू डेवलपमेंट बैंक और एशियन इन्फ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट बैंक के बोर्ड सदस्य भी हैं। साथ ही, एशियाई विकास कोष, अंतरराष्ट्रीय मौद्रिक और वित्तीय समिति, अंतरराष्ट्रीय कृषि विकास कोष और अंतरराष्ट्रीय विकास संघ के उप / वैकल्पिक गवर्नर के रूप में भी सेवारत हैं तथा SAARTAC में भारत के प्रधान प्रतिनिधि भी हैं।

आप आर्थिक कार्य विभाग में संयुक्त सचिव और अपर सचिव सहित भारत सरकार में विभिन्न पदों पर कार्यरत रहे हैं। आर्थिक कार्य विभाग में रहते हुए आप दो केंद्रीय बजट (2020-2021 और 2021-2022) तैयार करने की प्रक्रिया में शामिल रहे हैं। इसी दौरान, वित्त मंत्रालय द्वारा संसद में कागजरहित डिजिटल बजट प्रस्तुत किया गया था। 2020-2021 में कोविड संकट के दौरान भारत सरकार के वित्तीय संसाधनों का प्रबंधन करने में भी आपका योगदान रहा है।

आप जी-20 जापान 2020 के लिए भारत के शेरपा रहे हैं। आपने दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संघ (सार्क) विकास कोष में भारत का प्रतिनिधित्व किया है और अमेरिका, यूरोपीय संघ, चीन तथा मालदीव के साथ विभिन्न आर्थिक एवं वित्तीय रणनीतिक संवादों का समन्वय किया है। आप ‘आयडियाज’ के अंतर्गत विकास सहयोग प्रदान करने के लिए अफ्रीकी और दक्षिण एशियाई देशों से परियोजना प्रस्तावों का चयन करने के लिए अंतर-मंत्रालयी समिति के सह-अध्यक्ष भी रहे हैं। श्री मिश्रा राजस्थान में मुख्यमंत्री कार्यालय में सचिव, राजस्थान सरकार के जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग में मुख्य सचिव और राजस्थान राज्य खान एवं खनिज लिमिटेड के प्रबंध निदेशक के रूप में भी सेवारत रहे हैं। पूर्व में, अन्य के साथ-साथ श्रम सुधार, कौशल विकास, शहरी विकास और कराधान जैसे क्षेत्रों में आपका काफी काम रहा है।

भारत सरकार का प्रतिनिधित्व करने वाले निदेशक

श्री सुचीन्द्र मिश्र

अपर सचिव

वित्तीय सेवा विभाग, वित्त मंत्रालय, भारत सरकार।

श्री सुचीन्द्र मिश्र वित्तीय सेवाएं विभाग, वित्त मंत्रालय, भारत सरकार में अपर सचिव हैं।

आप भारतीय रक्षा लेखा सेवा के 1992 बैच के अधिकारी हैं और रक्षा लेखा विभाग में विभिन्‍न उत्तरदायित्व संभाल चुके हैं। आपने वित्त मंत्रालय, भारत सरकार में उप सचिव / निवेश और लोक परिसंपत्ति प्रबंधन विभाग तथा व्यय विभाग में निदेशक और वित्तीय सेवाएं विभाग में संयुक्त सचिव के रूप में भी सेवाएं दी हैं।

आप दिल्ली विश्‍वविद्यालय और एक्सएलआरआई-ज़ेवियर स्कूल ऑफ मैनेजमेंट, जमशेदपुर के छात्र रहे हैं।

भारत सरकार का प्रतिनिधित्व करने वाले निदेशक

श्री विपुल बंसल

संयुक्त सचिव

वाणिज्य एवं उद्योग विभाग, वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय

श्री विपुल बंसल 2005 बैच के भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी हैं। वर्तमान में आप वाणिज्य एवं उद्योग विभाग में संयुक्त सचिव के रूप में कार्यरत हैं। इससे पहले, आप वित्त मंत्रालय और रक्षा मंत्रालय सहित भारत सरकार के विभिन्न मंत्रालयों में कार्यरत रहे हैं। श्री बंसल ने 2001 में अपनी चार्टर्ड अकाउंटैंसी पूरी की। आप श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स, दिल्ली विश्वविद्यालय के छात्र रहे हैं, जहां से आपने 1998 में वाणिज्य में स्नातक की डिग्री हासिल की। आप अंग्रेज़ी, हिन्दी और कन्नड़ भाषाओं के ज्ञाता हैं।

अन्य संस्थाओं और वाणिज्यिक बैंकों से निदेशक

श्री आर. सुब्रमणियन

कार्यपालक निदेशक

भारतीय रिज़र्व बैंक

श्री आर. सुब्रमणियन भारतीय रिज़र्व बैंक के कार्यपालक निदेशक हैं। आपको रिज़र्व बैंक में बैंकिंग पर्यवेक्षण, प्रवर्तन, वित्तीय बाजार विनियमन, रिज़र्व प्रबंधन, आंतरिक ऋण प्रबंधन और अन्यक्षेत्रों मेंतीन दशकों से अधिक का अनुभव है।

श्री सुब्रमणियन ग्रामीण प्रबंधन संस्थान (इंस्टीट्यूट ऑफ रूरल मैनेजमेंट), आणंद से प्रबंधन में पोस्ट ग्रैजुएट डिप्लोमा धारक हैं। आपने इंस्टीट्यूट ऑफ कॉस्ट अकाउंटैंट्स ऑफ इंडिया से एसोसिएट के रूप में प्रोफेशनल योग्यता हासिल की और आप इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ बैंकिंग एंड फायनैंस के सर्टिफाइड एसोसिएट भी हैं।

अन्य संस्थाओं और वाणिज्यिक बैंकों से निदेशक

श्री एम सेंथिलनाथन

अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक

ईसीजीसी लिमिटेड

श्री एम. सेंथिलनाथन ईसीजीसी लिमिटेड के अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक हैं। आपने ईसीजीसी में 1988 में अपना करियर शुरू किया था। आपने देशभर में ईसीजीसी के विभिन्न कार्यालयों में विभिन्न कार्यभार संभाले हैं। वस्तु और सेवा निर्यातकों की जरूरतों को समझते हुए निर्यातकों और बैंकों के लिए बीमा उत्पादों की पुनर्संरचना में आपकी अहम भूमिका रही है। आप कुवैत में बहुपक्षीय निर्यात ऋण एजेंसी इंटर अरब इन्वेस्टमेंट गारंटी कॉर्पोरेशन में भी रहे हैं और वर्ष 2006-07 के दौरान पुनर्बीमा परामर्शदाता के रूप में आपने अपनी सेवाएं दी हैं। वर्ष 2008 से 2011 के दौरान आप ईसीजीसी के उत्तरी क्षेत्र के प्रमुख रहे, जिसके अंतर्गत 15 कार्यालय और लगभग 100 अधिकारी आते थे। फिर वर्ष 2011 से 2015 के दौरान ईसीजीसी के कॉर्पोरेट कार्यालय में महाप्रबंधक के रूप में कार्यरत रहे। इस दौरान आपने हामीदारी अंकन (अंडरराइटिंग) संबंधी शीर्ष समिति के सदस्य होने के साथ-साथ दावा, निवेश, मानव संसाधन और प्रशासन जैसे क्षेत्रों सहित वित्त एवं लेखा, पुनर्बीमा, जोखिम प्रबंधन, बीमांकिक कार्यकलापों का कार्यभार संभाला। आप दिसंबर 2015 से ईसीजीसी के पूर्णकालिक निदेशक होने के साथ-साथ भारत सरकार के ट्रस्ट राष्ट्रीय निर्यात बीमा खाता (एनईआईए) के प्रबंध ट्रस्टी भी हैं, जिसके अंतर्गत मध्यम और दीर्घावधि के परियोजना निर्यात आते हैं।

आप अक्टूबर 2017 से ईसीजीसी के प्रतिनिधि के रूप में बर्न यूनियन (इंटरनेशनल यूनियन ऑफ क्रेडिट एंड इन्वेस्टमेंट इंश्योरर्स) प्रबंधन समिति और अल्पावधि समिति के सदस्य हैं। श्री सेंथिलनाथ वित्त में एमबीए हैं।

अन्य संस्थाओं और वाणिज्यिक बैंकों से निदेशक

श्री दिनेश खारा

अध्यक्ष

एसबीआई

श्री दिनेश खारा देश के सबसे बड़े बैंक, भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के अध्यक्ष हैं। 1984 में आपने प्रोबेशनरी ऑफिसर के रूप में एसबीआई जॉइन किया। आपको बैंकिंग क्षेत्र में सभी विषयों का गहन अनुभव है। श्री खारा एसबीआई के अध्यक्ष के रूप में नियुक्त होने से पहले एसबीआई में कई मुख्य पदों पर कार्य कर चुके हैं। आप प्रबंध निदेशक (ग्लोबल बैंकिंग और अनुषंगियां), प्रबंध निदेशक (सहयोगी एवं अनुषंगियां), प्रबंध निदेशक एवं सीईओ (एसबीआई म्यूचुअल फंड्स) और मुख्य महाप्रबंधक, भोपाल सर्कल रहे हैं। विदेशी कार्यभार संभालने के दौरान आप शिकागो में भी पदस्थापित रहे हैं।

प्रबंध निदेशक के रूप में अंतरराष्ट्रीय बैंकिंग समूह, बड़े कॉर्पोरेट्स और ट्रेजरी परिचालनों के प्रमुख रहने के अतिरिक्त आप बैंक की एसबीआई क्रेडिट कार्ड, एसबीआई म्यूचुअल फंड, एसबीआई लाइफ इंश्योरेंस, एसबीआई जनरल जैसी गैर-बैंकिंग सहायक कंपनियों के भी प्रमुख रहे। आपने अपने पांच पूर्व सहयोगी बैंकों और भारतीय महिला बैंक का एसबीआई में विलय संबंधी कार्य का सफलतापूर्वक निष्पादन किया। इसके अतिरिक्त आप अलग-अलग समय पर बैंक के जोखिम, आईटी और अनुपालन कार्यों के प्रमुख भी रहे हैं।

श्री खारा दिल्ली स्कूल ऑफ इकनॉमिक्स से कॉमर्स में पोस्ट ग्रैजुएट हैं और एफएमएस, नई दिल्ली से एमबीए हैं। आप इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ बैंकर्स के सर्टिफाइड एसोसिएट (CAIIB) हैं। पढ़ने में आपकी रुचि है और आप कई देशों की यात्रा कर चुके हैं।

अन्य संस्थाओं और वाणिज्यिक बैंकों से निदेशक

श्री राकेश शर्मा

प्रबंध निदेशक और सीईओ

आईडीबीआई बैंक

श्री राकेश शर्मा आईडीबीआई बैंक लिमिटेड के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यपालक अधिकारी हैं। इससे पहले आप केनरा बैंक तथा लक्ष्मी विलास बैंक में प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यपालक अधिकारी के रूप में कार्यरत थे। केनरा बैंक में कार्यरत रहते हुए आप केनरा बैंक की समूह कंपनियों में अध्यक्ष के पद पर भी रहे।

2014 में लक्ष्मी विलास बैंक में कार्यभार ग्रहण करने से पहले श्री शर्मा भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) में मुख्य महाप्रबंधक के पद पर कार्यरत थे। आपको एसबीआई में 33 वर्ष से अधिक का अनुभव रहा है। वहां आप आंध्र प्रदेश क्षेत्र में मिड कॉर्पोरेट खातों के प्रमुख रहे हैं। इसके अलावा, आपने राजस्थान, उत्तराखंड और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में रिटेल परिचालनों के पर्यवेक्षण, अंतरराष्ट्रीय बैंकिंग समूह में बैंकिंग परिचालन, विशेषीकृत शाखाओं / प्रशासनिक कार्यालयों आदि में क्रेडिट असाइनमेंट जैसे महत्त्वपूर्ण कार्यभार भी संभाले हैं।

श्री राकेश शर्मा अर्थशास्त्र में पोस्ट ग्रैजुएट और सीएआईआईबी हैं।

अन्य संस्थाओं और वाणिज्यिक बैंकों से निदेशक

श्री राजकिरन राय जी

प्रबंध निदेशक और सीईओ

यूनियन बैंक ऑफ इंडिया

श्री राजकिरन राय जी ने 1 जुलाई, 2017 को यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के प्रबंध निदेशक एवं सीईओ के रूप में कार्यग्रहण किया था। आप कृषि विज्ञान में ग्रैजुएट हैं और भारतीय बैंकर्स संस्थान के सर्टिफाइड एसोसिएट हैं। आपको बैंकिंग क्षेत्र में तीन दशक से अधिक का अनुभव प्राप्त है। आप औद्योगिक वित्त शाखा, क्षेत्र एवं अंचल कार्यालयों के प्रमुख भी रहे हैं। आपने अपने करियर की शुरुआत सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया में कृषि वित्त अधिकारी के रूप में की थी। आपको देश के विभिन्न हिस्सों में 17 से अधिक वर्षों तक अनेक शाखाओं के प्रमुख के रूप में कार्य करने का अनुभव प्राप्त है। महाप्रबंधक के रूप में पदोन्नति पर आपको मानव संसाधन विकास विभाग का कार्यभार सौंपा गया। ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स के कार्यपालक निदेशक के पद पर पदोन्नत होने से पहले आप सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया के मुंबई अंचल के क्षेत्र महाप्रबंधक रहे। आप केनरा बैंक, एचएसबीसी, ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स और एलआईसी के बोर्ड में भी रहे हैं।

अन्य संस्थाओं और वाणिज्यिक बैंकों से निदेशक

श्री ए.एस. राजीव

प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी

बैंक ऑफ महाराष्ट्र

श्री ए.एस. राजीव ने 2 दिसंबर, 2018 को बैंक ऑफ महाराष्ट्र के प्रबंध निदेशक और सीईओ का पदभार संभाला। इससे पहले आप इंडियन बैंक के कार्यपालक निदेशक थे। श्री राजीव को सिंडिकेट बैंक, विजया बैंक और इंडियन बैंक में लगभग तीन दशकों का प्रोफेशनल बैंकिंग का अनुभव है। आप क्वालिफाइड चार्टर्ड अकाउंटैंट हैं और आपको कॉर्पोरेट क्रेडिट, अंतरराष्ट्रीय बैंकिंग, ट्रेजरी, जोखिम प्रबंधन, ऋण निगरानी और पर्यवेक्षण, एनपीए प्रबंधन, योजना और विकास, मानव संसाधन, वित्त, लेखा और कराधान, सतर्कता, कॉर्पोरेट अभिशासन, निरीक्षण एवं लेखा परीक्षा, साइबर सुरक्षा जैसे बैंकिंग के सभी महत्त्वपूर्ण क्षेत्रों में विशेषज्ञता हासिल है। इंडियन बैंक के कार्यपालक निदेशक के रूप में आप एनपीसीआई और बैंक की अनुषंगी संस्थाओं- मेसर्स इंडबैंक मर्चेंट बैंकिंग सर्विसेज लिमिटेड और मेसर्स इंडबैंक हाउसिंग लि. के निदेशक भी रहे। आपने भारतीय रिज़र्व बैंक/ सरकार द्वारा गठित विभिन्न समितियों के सदस्य के रूप में भी काम किया है।

विजया बैंक में श्री राजीव बेंगलूरु और चेन्नै क्षेत्रों के क्षेत्रीय प्रमुख के रूप में भी कार्य कर चुके हैं।

आपने भारत और विदेश दोनों में विभिन्न व्यावसायिक प्रशिक्षण कार्यक्रमों में भाग लिया है, जिनमें एडवांस्ड लीडरशिप प्रोग्राम, ईडीपी, जोखिम प्रबंधन, आईएफआरएस, बुनियादी ढांचागत परियोजनाओं को वित्तपोषण और डेरिवेटिव आदि शामिल हैं।

अन्य संस्थाओं और वाणिज्यिक बैंकों से निदेशक

श्री अशोक कुमार गुप्ता

गैर-सरकारी निदेशक

-

श्री अशोक कुमार गुप्ता कर परामर्शदाता और ए.के. गुप्ता एंड कं. के प्रॉप्राइटर हैं। आपको कर एवं विनियामकीय क्षेत्रों में लगभग 34 वर्षों से भी अधिक का अनुभव है। साथ ही आपको कर आयोजना, कानूनी सहयोग, सम्यक् जांच, फेमा और अन्य कर कानूनों में विशेषज्ञता प्राप्त है। आपने सेंट ज़ेवियर्स कॉलेज से वाणिज्य में स्नातक की और कलकत्ता विश्‍वविद्यालय से कानून की डिग्री ली है। श्री गुप्ता डायरेक्ट टैक्सेज़ प्रफेशनल्स एसोसिएशन के आजीवन सदस्य हैं। आपको किताबें और समसामयिक पत्रिकाएं पढ़ने के साथ-साथ क्रिकेट और फुटबॉल खेलना पसंद है।

पूर्णकालिक निदेशक

सुश्री हर्षा बंगारी

प्रबंध निदेशक

सुश्री हर्षा बंगारी बैंक की प्रबंध निदेशक हैं। इससे पहले वे एक्ज़िम बैंक की उप प्रबंध निदेशक एवं मुख्य वित्तीय अधिकारी के रूप में कार्यरत थीं। उन्होंने 1995 में एक्ज़िम बैंक जॉइन किया था। सुश्री बंगारी अनुभवी फायनैंस प्रोफेशनल हैं और उन्हें वित्तीय क्षेत्र में 25 वर्ष से अधिक का अनुभव है। उन्हें बैंक की सभी प्रक्रियाओं और व्यवसाय नीतियों की विशद जानकारी है। उन्हें ट्रेजरी और विदेशी मुद्रा संसाधनों से लेकर जोखिम प्रबंधन, ग्राहक सेवा, देयता प्रबंधन जैसे बैंक के समस्त क्रियाकलापों का अनुभव है। अंतरराष्ट्रीय डेट कैपिटल मार्केट तथा अंतरराष्ट्रीय परियोजना वित्त उनकी रुचि के क्षेत्रों में शामिल हैं।

सुश्री बंगारी कॉमर्स ग्रेजुएट एवं चार्टर्ड अकाउंटेंट हैं।

पूर्णकालिक निदेशक

श्री एन. रमेश

उप प्रबंध निदेशक

श्री एन. रमेश ने 23 नवंबर, 2020 को भारतीय निर्यात-आयात बैंक (इंडिया एक्ज़िम बैंक) के उप प्रबंध निदेशक के रूप में कार्यभार ग्रहण किया। वह 1999 बैच के भारतीय दूरसंचार सेवा के अधिकारी हैं। इंडिया एक्ज़िम बैंक में नियुक्ति से पहले वह भारतीय राष्ट्रीय कृषि सरकारी विपणन संघ लिमिटेड (नेफेड) में कार्यपालक निदेशक के रूप में कार्यरत थे। 2016 से 2019 तक वह वाणिज्य विभाग, भारत सरकार में निदेशक के रूप में कार्यरत रहे। यहां उन्होंने कृषि, निर्यात, बायोटेक्नोलॉजी और संयंत्र प्रभागों का कार्यभार संभाला। 2010-2016 के दौरान श्री एन. रमेश ने समुद्री उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण में निदेशक (मार्केटिंग) के रूप में अपनी सेवाएं दीं।

उन्होंने दूरसंचार विभाग में सभी दूसरसंचार सेवा प्रदाताओं और बीपीओ उद्योग संबंधी लाइसेंसिंग शर्तों और विनियमन के क्रियान्वयन के क्षेत्र में काम किया है। उन्होंने मोबाइल नेटवर्क और संबंधित बुनियादी ढांचागत विकास के लिए बीएसएनएल के साथ भी काम किया है।

श्री रमेश बैंगलोर विश्वविद्यालय से इलेक्ट्रॉनिक्स और कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग स्नातक हैं। वह भारतीय प्रबंधन संस्थान (आईआईएम), बैंगलोर से पब्लिक पॉलिसी एंड मैनेजमेंट में पोस्ट ग्रैजुएट हैं।