उद्देश्य

एक विज़न से संचालित

हमारे उद्देश्य हैं

...निर्यातकों और आयातकों को वित्तीय सहायता प्रदान करना और... देश के अंतरराष्ट्रीय व्यापार के संवर्द्धन की दृष्टि से माल एवं सेवाओं के निर्यात और आयात का वित्तपोषण करने वाली संस्थाओं के कामकाज का समन्वय करने के लिए एक प्रमुख वित्तीय संस्था...

".....जनहित को ध्यान में रखते हुए व्यावसायिक सिद्धांतों पर कार्य करना"

(भारतीय निर्यात-आयात बैंक अधिनियम, 1981)

क्रमिक लक्ष्य

हम उत्पाद केंद्रित से ग्राहक केंद्रित दृष्टिकोण की ओर बढ़ रहे हैं, ताकि चुनिंदा निर्यात उन्मुख कंपनियों के साथ मजबूत वाणिज्यिक संबंध बनाए रखे जा सकें और इसके लिए हम अपने विभिन्न उत्पादों व सेवाओं के जरिए उनके अंतरराष्ट्रीयकरण प्रयासों में मदद कर अपने इस लक्ष्य की ओर बढ़ रहे हैं|

  • 1982 - 85

    निर्यात ऋण

  • 1985 - 94

    निर्यात क्षमता सृजन

  • 1994 - आज

    उत्पाद और सेवाओं की व्यापक श्रेणी

1982 - 85

निर्यात ऋण

कंपनियों को विदेशों में कारोबार करने के लिए सरकार समर्थित ऋण, गारंटियां और बीमा प्रदान करते हैं|

1985 - 94

निर्यात क्षमता सृजन

समाज के हर स्तर पर लोगों के हुनर को निखारते हैं और विदेशों में कारोबार के अवसरों का सृजन करते हैं|

1994 - आज

उत्पाद और सेवाओं की व्यापक श्रेणी

उत्पाद और सेवाओं की व्यापक श्रेणीः भारतीय व्यापार को दुनियाभर में फैलाने वाले अनूठे उत्पाद और आवश्यकता आधारित सेवाएं प्रदान करते हैं|