भारत के वस्तु निर्यातों के लिए एक्ज़िम बैंक का पूर्वानुमान

एक्ज़िम बैंक अपनी शोध पहलों को जारी रखते हुए भारत के वस्तु निर्यातों पर निगाह बनाए रखता है और हर तीन महीने में इसके पूर्वानुमान जारी करता है। येपूर्वानुमान भारत के एक्सपोर्ट लीडिंग इंडेक्स (ईएलआई) के लिए इन-हाउस मॉडल पर आधारित होते हैं। ईएलआई को देश की निर्यात संभावनाओं को आंकने और तिमाही आधार पर देश के वस्तु निर्यातों तथा गैर-तेल निर्यातों में वृद्धि के पूर्वानुमान के संकेतक के रूप में विकसित किया गया है, जो देश के निर्यात को प्रभावित करने वाले विभिन्न बाहरी और घरेलू कारकों पर आधारित है।

भारत के कुल वस्तु निर्यातों और गैर-तेल निर्यातों में वृद्धि के पूर्वानुमान जून, सितंबर, दिसंबर और मार्च तिमाही के लिए इन महीनों के पहले सप्ताह में जारी किए जाते हैं।

प्रेस विज्ञप्ति

  • Press Releases

    14-Mar-2022

    इंडिया एक्ज़िम बैंक का पूर्वानुमान, वित्तीय वर्ष 2022 के दौरान 414 बिलियन यूएस डॉलर से अधिक का रहेगा कुल वस्तु निर्यात, वित्तीय वर्ष 2022 की चौथी तिमाही (जनवरी-मार्च) में भारत का वस्तु निर्यात 111.3 बिलियन यूएस डॉलर तथा 95.2 बिलियन यूएस डॉलर का रहेगा गैर-तेल निर्यात

    आगे पढ़ें
  • Press Releases

    10-Dec-2021

    इंडिया एक्ज़िम बैंक का पूर्वानुमान, वित्तीय वर्ष 2022 की तीसरी तिमाही (अक्टूबर-दिसंबर) में भारत का वस्तु निर्यात 105.8 बिलियन यूएस डॉलर तथा गैर-तेल निर्यात 89.1 बिलियन यूएस डॉलर का रहेगा

    आगे पढ़ें
  • Press Releases

    09-Sep-2021

    इंडिया एक्ज़िम बैंक का पूर्वानुमान, वित्तीय वर्ष 2022 कीदूसरीतिमाही में 98.45 बिलियन यूएस डॉलर का रहेगा भारत का वस्तु निर्यात और 85.63 बिलियन यूएस डॉलर का रहेगागैर-तेल निर्यात

    आगे पढ़ें
  • Press Releases

    13-Jun-2021

    इंडिया एक्ज़िम बैंक का पूर्वानुमान, वित्तीय वर्ष 2022 की पहली तिमाही में सकारात्मक वृद्धि दर्ज करते हुए 87. 2 बिलियन यूएस डॉलर का रहेगा भारत का वस्तु निर्यात और 72.26 बिलियन यूएस डॉलर का रहेगा गैर-तेल निर्यात

    आगे पढ़ें
  • Press Releases

    13-Mar-2021

    इंडिया एक्ज़िम बैंक का पूर्वानुमान, वित्तीय वर्ष 2021 की चौथी तिमाही में सकारात्मक वृद्धि दर्ज़ करते हुए भारत का वस्तु निर्यात 78.6 बिलियन यूएस डॉलर तथा भारत का गैर-तेल निर्यात 73.9 बिलियन यूएस डॉलर रहेगा

    आगे पढ़ें
  • Press Releases

    17-Dec-2020

    एक्ज़िम बैंक का पूर्वानुमान, वित्तीय वर्ष 2021 की तीसरी तिमाही में भारत का गैर-तेल निर्यात 68.3 बिलियन की मामूली सकारात्‍मक वार्षिक वृद्धि दर्ज करेगा

    आगे पढ़ें
  • Press Releases

    09-Sep-2019

    एक्ज़िम बैंक का पूर्वानुमान, भारत का वस्तु निर्यात वित्तीय वर्ष 2020 की दूसरी तिमाही में 0.6 प्रतिशत की दर से बढ़ेगा

    आगे पढ़ें
  • Press Releases

    07-Jun-2019

    एक्ज़िम बैंक का पूर्वानुमान- भारत के वस्तु तथा गैर तेल निर्यात में सकारात्मक वृद्धि के संकेत, वित्तीय वर्ष 2020 की पहली तिमाही में वर्ष दर वर्ष आधार पर यह क्रमशः 2.5 प्रतिशत और 4.2 प्रतिशत की दर से बढ़ेगा

    आगे पढ़ें
  • Press Releases

    06-Mar-2019

    एक्ज़िम बैंक का पूर्वानुमान, भारत का वस्तु निर्यात वित्तीय वर्ष 2019 की चौथीतिमाही में 7.7 प्रतिशत की दर से बढ़ेगा तथा गत वर्ष की इसी तिमाही के मुकाबले इस तिमाही में भारत का गैर-तेल निर्यात 5.1 प्रतिशत बढ़ेगा

    आगे पढ़ें
  • Press Releases

    10-Dec-2018

    एक्ज़िम बैंक का पूर्वानुमान, भारत का वस्तु निर्यात वित्तीय वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में 7 प्रतिशत की दर से बढ़ेगा तथा गत वर्ष की इसी तिमाही के मुकाबले इस तिमाही में भारत का गैर-तेल निर्यात 7.2 प्रतिशत बढ़ेगा

    आगे पढ़ें
  • Press Releases

    11-Sep-2018

    एक्ज़िम बैंक का पूर्वानुमान, वित्तीय वर्ष 2019 की दूसरी तिमाही में भारत का वस्तु निर्यात12.3 प्रतिशत और गैर-तेल निर्यात 12.4 प्रतिशत की दर से बढ़ेगा

    आगे पढ़ें
  • Press Releases

    11-Jun-2018

    एक्ज़िम बैंक का पूर्वानुमान, भारत का वस्तु निर्यात जून तिमाही में 10.6 प्रतिशत की दर से बढ़ेगा

    आगे पढ़ें
  • Press Releases

    11-Apr-2018

    एक्ज़िम बैंक ने भारत के वस्तुध निर्यात गत वर्ष की इस तिमाही की तुलना में वित्तीय वर्ष 2018 की चौथी तिमाही में 5.96 प्रतिशत से ज्यादा वृद्धि होने का अनुमान लगाया

    आगे पढ़ें

इंडिया एक्ज़िम बैंक का पूर्वानुमान, वित्तीय वर्ष 2022 के दौरान 414 बिलियन यूएस डॉलर से अधिक का रहेगा कुल वस्तु निर्यात, वित्तीय वर्ष 2022 की चौथी तिमाही (जनवरी-मार्च) में भारत का वस्तु निर्यात 111.3 बिलियन यूएस डॉलर तथा 95.2 बिलियन यूएस डॉलर का रहेगा गैर-तेल निर्यात

प्रिंट करें

भारतीय निर्यात-आयात बैंक (इंडिया एक्ज़िम बैंक) ने वित्तीय वर्ष 2021-22 की चौथी तिमाही के लिए निर्यातों के पूर्वानुमान जारी कर दिए हैं। इसके अनुसार, भारत के कुल वस्तु निर्यात लगातार तीसरी तिमाही में 100 बिलियन यूएस डॉलर से अधिक के रहेंगे। इन पूर्वानुमानों के अनुसार, वित्तीय वर्ष 2021-22 की चौथी तिमाही (जनवरी-मार्च) के लिए भारत के कुल वस्तु निर्यात 23% की वृद्धि दर्ज करते हुए 111.3 बिलियन यूएस डॉलर और गैर-तेल निर्यात 15.8% की वृद्धि दर्ज करते हुए 95.2 बिलियन यूएस डॉलर के रहेंगे। जबकि पिछले वित्तीय वर्ष की इसी तिमाही के दौरान ये निर्यात क्रमशः 90.4 बिलियन यूएस डॉलर और 82.2 बिलियन यूएस डॉलर के रहे थे। भारत के निर्यातों में यह बढ़ोत्तरी मुख्य रूप से वैश्‍विक वृद्धि के जारी रहने और इसके चलते वैश्‍विक आयात मांग बढ़ने के कारण हो सकती है। साथ ही, विशेष रूप से तेल की कीमतें बढ़ने के चलते कमोडिटी कीमतों के अनुकूल बने रहना भी निर्यातों में वृद्धि का अहम कारक है। पूरे वर्ष (अर्थात 2021-22) के लिए कुल वस्तु निर्यात 414.8 बिलियन यूएस डॉलर (42% वृद्धि) का रहने की उम्मीद है। वहीं इसी अवधि के दौरान गैर-तेल निर्यातों के 353.4 बिलियन यूएस डॉलर (33% वृद्धि) के रहने की संभावना है। ये पूर्वानुमान मुख्यतः वर्तमान भू-राजनीतिक तनाव के चलते कमोडिटी मूल्य में अस्थिरता और वैश्‍विक अर्थव्यवस्था में अनिश्‍चितताओं के अध्यधीन हैं। 

इंडिया एक्ज़िम बैंक द्वारा भारत के कुल वस्तु निर्यातों और गैर-तेल निर्यातों में वृद्धि के पूर्वानुमान तिमाही आधार पर संबंधित तिमाहियों के लिए जून, सितंबर, दिसंबर और मार्च के पहले सप्ताह में जारी किए जाते हैं। इस मॉडल में निरंतर सुधार का प्रयास किया जाता है। ये पूर्वानुमान इंडिया एक्ज़िम बैंक के एक्सपोर्ट लीडिंग इंडेक्स (ईएलआई) मॉडल पर आधारित हैं, जिसमें इस तिमाही में वृद्धि देखी गई है। वित्तीय वर्ष 2023 (अप्रैल-जून 2022) की पहली तिमाही के लिए भारत के निर्यातों में वृद्धि के पूर्वानुमान जून 2022 के पहले सप्ताह में जारी किए जाएंगे।

इस मॉडल तथा इससे प्राप्त पूर्वानुमान संबंधी परिणामों की समीक्षा विशेषज्ञों की एक स्थायी तकनीकी समिति द्वारा की गई है। इस समिति के सदस्यों में प्रोफेसर सैकत सिन्हा रॉय, प्रोफेसर एवं संयोजक, सेंटर फॉर एडवांस स्टडीज, अर्थशास्त्र  विभाग, जादवपुर विश्वविद्यालय कोलकाता; डॉ. सरत धल, निदेशक, अर्थशास्त्र और नीति अनुसंधान विभाग, भारतीय रिज़र्व बैंक, मुंबई; प्रोफेसर एन.आर. भानुमूर्ति, वाइस चांसलर, बीएएसई यूनिवर्सिटी, बेंगलूरू; तथा प्रोफेसर सी. वीरामणि, प्रोफेसर, इंदिरा गांधी इंस्टीट्यूट ऑफ डेवलपमेंट रिसर्च (आईजीआईडीआर), मुंबई शामिल हैं। 

एक्ज़िम बैंक द्वारा अपने निरंतर शोध प्रयासों की कड़ी में भारत के निर्यातों का तिमाही आधार पर ट्रैक रखने तथा वृद्धि में पूर्वानुमान के लिए एक्सपोर्ट लीडिंग इंडेक्स (ईएलआई) तैयार करने हेतु यह इन-हाउस मॉडल विकसित किया गया है। इस इंडेक्स को देश के निर्यातों पर प्रभाव डालने वाले विभिन्न बाह्य एवं घरेलू कारकों को ध्यान में रखते हुए देश के वस्तु निर्यातों में तिमाही आधार पर वृद्धि का पूर्वानुमान लगाने के लिए एक प्रमुख संकेतक के रूप में विकसित किया गया है।  

विस्तृत जानकारी के लिए कृपया संपर्क करें:
श्री डेविड सिनाटे, मुख्य महाप्रबंधक/ डॉ. विश्‍वनाथ जंध्याला, सहायक महाप्रबंधक, शोध एवं विश्लेषण समूह, भारतीय निर्यात-आयात बैंक, 8वीं मंज़िल, मेकर चैंबर IV, जमनालाल बजाज मार्ग, नरीमन पॉइंट, मुम्बई 400021, फोनः +91-22-2286 0363/ 0310/ 0311,
ई-मेलः dsinate@eximbankindia.in/viswanath@eximbankindia.in
वेबसाइटः  www.eximbankindia.in

डिस्क्लेमरः उपर्युक्त परिणाम नीति निर्माताओं, शोधार्थियों और निर्यातकों के लिए महत्त्वपूर्ण हो सकते हैं। ये पूर्वानुमान इंडिया एक्ज़िम बैंक के शोध एवं विश्लेषण समूह द्वारा निकाले गए हैं। इसे इंडिया एक्ज़िम बैंक की राय न माना जाए। उपर्युक्त तिमाही के लिए ईएलआई मॉडल से निकाले गए ये पूर्वानुमान मुख्यतः वर्तमान भू-राजनीतिक तनाव के चलते कमोडिटी मूल्य में अस्थिरता और वैश्‍विक अर्थव्यवस्था में अनिश्‍चितता के अध्यधीन हैं। हालिया उपलब्ध डाटा में सुधार तथा अग्रिम पूर्वानुमान पद्धति को अपनाते हुए तथा विभिन्न तिमाहियों में प्राप्त टिप्पणियों, सुझावों और फीडबैक को शामिल करते हुए इस मॉडल में लगातार सुधार किया जाता रहेगा। वास्तविक निर्यात संबंधी आंकड़े आरबीआई के भारतीय अर्थव्यवस्था संबंधी डेटाबेस से लिए गए हैं।

 

इंडिया एक्ज़िम बैंक का पूर्वानुमान, वित्तीय वर्ष 2022 की तीसरी तिमाही (अक्टूबर-दिसंबर) में भारत का वस्तु निर्यात 105.8 बिलियन यूएस डॉलर तथा गैर-तेल निर्यात 89.1 बिलियन यूएस डॉलर का रहेगा

प्रिंट करें

भारतीय निर्यात-आयात बैंक (इंडिया एक्ज़िम बैंक) द्वारा जारी पूर्वानुमानों के अनुसार वित्तीय वर्ष 2021-22 की तीसरी तिमाही (अक्टूबर-दिसंबर) के लिए भारत का कुल मर्चैंडाइज़ निर्यात 39.6% की वृद्धि दर्ज करते हुए 105.8 बिलियन यूएस डॉलर और गैर-तेल निर्यात 26.8% की वृद्धि दर्ज करते हुए 89.1 बिलियन यूएस डॉलर के रहेंगे। जबकि पिछले वित्तीय वर्ष की इसी तिमाही के दौरान ये निर्यात क्रमशः 75.8 बिलियन यूएस डॉलर और 70.3 बिलियन यूएस डॉलर के रहे थे। भारत के निर्यातों में यह वृद्धि मुख्य रूप से उन्नत अर्थव्यवस्थाओं में वृद्धि बने रहने तथा इसके परिणामस्वरूप वैश्विक आयात मांग में बढ़ोत्तरी के चलते देखी गई है। भारत के निर्यातों में बढ़ोत्तरी का एक कारण वैश्विक कमोडिटी कीमतों का अनुकूल बने रहना भी है। 

इंडिया एक्ज़िम बैंक द्वारा भारत के कुल वस्तु निर्यातों और गैर-तेल निर्यातों में वृद्धि के पूर्वानुमान तिमाही आधार पर संबंधित तिमाहियों के लिए जून, सितंबर, दिसंबर और मार्च के पहले सप्ताह में जारी किए जाते हैं। इस मॉडल में निरंतर सुधार का प्रयास किया जाता है। ये पूर्वानुमान इंडिया एक्ज़िम बैंक के एक्सपोर्ट लीडिंग इंडेक्स (ईएलआई) मॉडल पर आधारित हैं, जिसमें इस तिमाही मेंवृद्धि देखी गई है। जनवरी-मार्च 2022की चौथी तिमाही के लिए भारत के निर्यातों में वृद्धि के पूर्वानुमान मार्च 2022 के पहले सप्ताह में जारी किए जाएंगे।

इस मॉडल तथा इससे प्राप्त पूर्वानुमान संबंधी परिणामों की समीक्षा विशेषज्ञों की एक स्थायी तकनीकी समिति द्वारा की गई है। इस समिति के सदस्यों में प्रोफेसर सैकत सिन्हा रॉय, प्रोफेसर एवं संयोजक, सेंटर फॉर एडवांस स्टडीज, अर्थशास्त्र  विभाग, जादवपुर विश्वविद्यालय कोलकाता; डॉ. सरत धल, निदेशक, अर्थशास्त्रऔर नीति अनुसंधान विभाग, भारतीय रिज़र्व बैंक, मुंबई; प्रोफेसर एन.आर. भानुमूर्ति, वाइस चांसलर, बीएएसई यूनिवर्सिटी, बेंगलूरू; तथा प्रोफेसर सी. वीरामणि, प्रोफेसर, इंदिरा गांधी इंस्टीट्यूट ऑफ डेवलपमेंट रिसर्च (आईजीआईडीआर), मुंबई शामिल हैं। 

एक्ज़िम बैंक द्वारा अपने निरंतर शोध प्रयासों की कड़ी में भारत के निर्यातों का तिमाही आधार पर ट्रैक रखने तथा वृद्धिमें पूर्वानुमान के लिए एक्सपोर्ट लीडिंग इंडेक्स (ईएलआई) तैयार करने हेतु यह इन-हाउस मॉडल विकसित किया गया है। इस इंडेक्स को देश के निर्यातों पर प्रभाव डालने वाले विभिन्न बाह्य एवं घरेलू कारकों को ध्यान में रखते हुए देश के वस्तु निर्यातों में तिमाही आधार पर वृद्धि का पूर्वानुमान लगाने के लिए एक प्रमुख संकेतक के रूप में विकसित किया गया है।  

विस्तृत जानकारी के लिए कृपया संपर्क करें:
श्री डेविड सिनाटे, मुख्य महाप्रबंधक/ डॉ. विश्वनाथ जंध्याला, सहायक महाप्रबंधक,शोध एवं विश्लेषण समूह,भारतीय निर्यात-आयात बैंक, केन्द्र एक भवन, 21वीं मंजिल, विश्व व्यापार केन्द्र संकुल, कफ़ परेड, मुम्बई 400005, फोनः +91-22-2286 0363/ 0310/ 0311, 
ई-मेलःdsinate@eximbankindia.in/viswanath@eximbankindia.in
वेबसाइटः  www.eximbankindia.in

डिस्क्लेमरः उपर्युक्त परिणाम नीति निर्माताओं, शोधार्थियों और निर्यातकों के लिए महत्त्वपूर्ण हो सकते हैं। ये पूर्वानुमान इंडिया एक्ज़िम बैंक के शोध एवं विश्लेषण समूह द्वारा निकाले गए हैं। इसे इंडिया एक्ज़िम बैंक की राय न माना जाए। उपर्युक्त तिमाही के लिए ईएलआई से निकाली गई गैर-तेल निर्यातों में वृद्धि कमोडिटी की कीमतों की अस्थिरता और मुख्य रूप से वैश्विक महामारी और इसके चलते वैश्विक अर्थव्यवस्था में अनिश्चितता के अध्यधीन है। हालिया उपलब्ध डाटा में सुधार तथा अग्रिम पूर्वानुमान पद्धति को अपनाते हुए तथा विभिन्न तिमाहियों में प्राप्त टिप्पणियों, सुझावों और फीडबैक को शामिल करते हुए इस मॉडल में लगातार सुधार किया जाता रहेगा। वास्तविक निर्यात डाटा आरबीआई के भारतीय अर्थव्यवस्था संबंधी डेटाबेस से लिया गया है।

इंडिया एक्ज़िम बैंक का पूर्वानुमान, वित्तीय वर्ष 2022 कीदूसरीतिमाही में 98.45 बिलियन यूएस डॉलर का रहेगा भारत का वस्तु निर्यात और 85.63 बिलियन यूएस डॉलर का रहेगागैर-तेल निर्यात

प्रिंट करें

भारतीय निर्यात-आयात बैंक (इंडिया एक्ज़िम बैंक) द्वारा जारी पूर्वानुमानों के अनुसार वित्तीय वर्ष 2021-22 की दूसरी तिमाही के लिए भारत का कुल मर्चैंडाइज़ निर्यात 33% की वृद्धि दर्ज करते हुए 98.45 बिलियन यूएस डॉलर और गैर-तेल निर्यात 28.3% की वृद्धि दर्ज करते हुए 85.63 बिलियन यूएस डॉलर के रहेंगे। जबकि पिछले वित्तीय वर्ष की इसी तिमाही के दौरान ये निर्यात क्रमशः 74.02 बिलियन यूएस डॉलर और 66.73 बिलियन यूएस डॉलर के रहे थे। भारत के निर्यातों में यह वृद्धि मुख्य रूप से न्यून आधार प्रभाव, उन्नत अर्थव्यवस्थाओं में वृद्धिहोने तथा इसके परिणामस्वरूप वैश्विक आयात मांगमें बढ़ोत्तरी के चलते देखी गई है। भारत के निर्यातों में बढ़ोत्तरी का एक कारण कमोडिटी कीमतें बढ़ना भी है। 

इंडिया एक्ज़िम बैंक द्वारा भारत के कुल वस्तु निर्यातों और गैर-तेल निर्यातों में वृद्धि के पूर्वानुमान तिमाही आधार पर संबंधित तिमाहियों के लिए जून, सितंबर, दिसंबर और मार्च के पहले सप्ताह में जारी किए जाते हैं। इस मॉडल में निरंतर सुधार का प्रयास किया जाता है। ये पूर्वानुमान इंडिया एक्ज़िम बैंक के एक्सपोर्ट लीडिंग इंडेक्स (ईएलआई) मॉडल पर आधारित हैं, जिसमें इस तिमाही मेंवृद्धि देखी गई है। अक्टूबर-दिसंबर 2021 तिमाही के लिए भारत के निर्यातों में वृद्धि के पूर्वानुमान दिसंबर 2021 के पहले सप्ताहमें जारी किए जाएंगे।

इ5स मॉडल तथा इससे प्राप्त पूर्वानुमान संबंधी परिणामों की समीक्षा विशेषज्ञों की एक स्थायी तकनीकी समिति द्वारा की गई है। इस समिति के सदस्यों में प्रोफेसर सैकत सिन्हा रॉय, प्रोफेसर एवं संयोजक, सेंटर फॉर एडवांस स्टडीज, अर्थशास्त्र  विभाग, जादवपुर विश्वविद्यालय कोलकाता; डॉ. सरत धल, निदेशक, अर्थशास्त्रऔर नीति अनुसंधान विभाग, भारतीय रिज़र्व बैंक, मुंबई; प्रोफेसर एन.आर. भानुमूर्ति, वाइस चांसलर, बीएएसई यूनिवर्सिटी, बेंगलूरू; तथा प्रोफेसर सी. वीरामणि, प्रोफेसर, इंदिरा गांधी इंस्टीट्यूट ऑफ डेवलपमेंट रिसर्च (आईजीआईडीआर), मुंबई शामिल हैं। 

एक्ज़िम बैंक द्वारा अपने निरंतर शोध प्रयासों की कड़ी में भारत के निर्यातों का तिमाही आधार पर ट्रैक रखने तथा वृद्धिमें पूर्वानुमान के लिए एक्सपोर्ट लीडिंग इंडेक्स (ईएलआई) तैयार करने हेतु यह इन-हाउस मॉडल विकसित किया गया है। इस इंडेक्स को देश के निर्यातों पर प्रभाव डालने वाले विभिन्न बाह्य एवं घरेलू कारकों को ध्यान में रखते हुए देश के वस्तु निर्यातों में तिमाही आधार पर वृद्धि का पूर्वानुमान लगाने के लिए एक प्रमुख संकेतक के रूप में विकसित किया गया है।  

विस्तृत जानकारी के लिए कृपया संपर्क करें:
श्री डेविड सिनाटे, मुख्य महाप्रबंधक/ डॉ. विश्वनाथ जंध्याला, सहायक महाप्रबंधक,शोध एवं विश्लेषण समूह,भारतीय निर्यात-आयात बैंक, केन्द्र एक भवन,21वीं मंजिल, विश्व व्यापार केन्द्र संकुल, कफ़ परेड, मुम्बई 400005, फोनः +91-22-2286 0363/ 0310/ 0311, 
ई-मेलःdsinate@eximbankindia.in/viswanath@eximbankindia.inवेबसाइटः  www.eximbankindia.in

डिस्क्लेमरः उपर्युक्त परिणाम नीति निर्माताओं, शोधार्थियों और निर्यातकों के लिए महत्त्वपूर्ण हो सकते हैं। ये पूर्वानुमान इंडिया एक्ज़िम बैंक के शोध एवं विश्लेषण समूह द्वारा निकाले गए हैं। इसे इंडिया एक्ज़िम बैंक की राय न माना जाए। उपर्युक्त तिमाही के लिए ईएलआई से निकाली गई गैर-तेल निर्यातों में वृद्धि कमोडिटी की कीमतों की अस्थिरता और मुख्य रूप से वैश्विक महामारी और इसके चलते वैश्विक अर्थव्यवस्था में अनिश्चितता के अध्यधीन है। हालिया उपलब्ध डाटा में सुधार तथा अग्रिम पूर्वानुमान पद्धति को अपनाते हुए तथा विभिन्न तिमाहियों में प्राप्त टिप्पणियों, सुझावों और फीडबैक को शामिल करते हुए इस मॉडल में लगातार सुधार किया जाता रहेगा। वास्तविक निर्यात डाटा आरबीआई के भारतीय अर्थव्यवस्था संबंधी डेटाबेस से लिया गया है।

 

इंडिया एक्ज़िम बैंक का पूर्वानुमान, वित्तीय वर्ष 2022 की पहली तिमाही में सकारात्मक वृद्धि दर्ज करते हुए 87. 2 बिलियन यूएस डॉलर का रहेगा भारत का वस्तु निर्यात और 72.26 बिलियन यूएस डॉलर का रहेगा गैर-तेल निर्यात

प्रिंट करें

भारतीय निर्यात-आयात बैंक (इंडिया एक्ज़िम बैंक) द्वारा जारी पूर्वानुमानो के अनुसार वित्तीय वर्ष 2021-22 की पहली तिमाही के लिए भारत का कुल मर्चेंडाइज निर्यात  70.1% की वृद्धि दर्ज करते हुए 87.2 बिलियन यूएस डॉलर और गैरतेल निर्यात 68.5% की वृद्धि दर्ज करते हुए 78.26 बिलियन यूएस डॉलर के रहेंगे। जबकि पिछले वर्ष की इसी तिमाही के दौरान ये निर्यात क्रमशः 51.3 बिलियन यूएस डॉलर और 46.4 बिलियन यूएस डॉलर के रहे थे। भारत के निर्यातों में यह तीव्र वृद्धि मुख्य रूप से न्यून आधार प्रभाव, वैश्विक तेल कीमतों में बढ़ोत्तरी और उन्नत अर्थव्यवस्थाओं  में अच्छी वृद्धि के चलते देखी गयी है | हालाँकि अप्रैल-मई 2021 के दौरान भारत में कोविड-19  महामारी की दूसरी लहर अपने चरम पर रहीं, जिससे इस तिमाही के दौरान निर्यात कुछ हद तक मंदे रहे, इसके बावजूद भारत से निर्यातों में अपेक्षाकृत रूप से अच्छी बढ़ोत्तरी रही| 

इंडिया एक्ज़िम बैंक द्वारा भारत के कुल वस्तु निर्यातों और गैर-तेल निर्यातों में वृद्धि के पूर्वानुमान तिमाही आधार पर संबंधित तिमाहियों के लिए जून, सितम्बर, दिसंबर और  सप्ताह में जारी किये जाते हैं | इस मॉडल में निरंतर सुधर का प्रयास किया जाता है | ये पूर्वानुमान इंडिया एक्ज़िम बैंक के एक्सपोर्ट लीडिंग इंडेक्स (ईएलआई) मॉडल पर आधारित हैं, जिसमे इस तिमाही में वृद्धि देखी गयी है | जुलाई-सितंबर 2021 तिमाही के लिए भारत के निर्यातों में वृद्धि के पूर्वानुमान सितंबर के पहले सप्ताह में जारी किये जायेंगे |

इस मॉडल तथा इससे प्राप्त पूर्वानुमान सम्बन्धी परिणामों की समीक्षा विशेषज्ञों की एक स्थायी तकनीकी समिति द्वारा की गयी है| इस समिति के सदस्यों में प्रोफेसर सैकत सिन्हा रॉय, प्रोफेसर एवं संयोजक, सेंटर फॉर एडवांस्ड स्टडीज, अर्थशास्त्र विभाग, जादवपुर विश्वविद्यालय कोलकाता: डॉ. सरत धल, निदेशक अर्थशास्त्र अनुसन्धान विभाग, भारतीय रिज़र्व बैंक, मुंबई; प्रोफेसर एन.आर. भानुमूर्ति, वाईस चांसलर, बीएएसई यूनिवर्सिटी, बेंगलुरु; तथा प्रोफेसर सी. वीरामणि, प्रोफेसर, इंदिरा गाँधी इंस्टिट्यूट ऑफ़ डेवलपमेंट रिसर्च (आईजीआईडीआर), मुंबई शामिल हैं| 

एक्ज़िम बैंक द्वारा अपने निरंतर शोध प्रयासों की कड़ी में भारत के निर्यातों का तिमाही आधार पर ट्रैक रखने तथा वृद्धि में पूर्वानुमान के लिए एक्सपोर्ट लीडिंग इंडेक्स (ईएलआई) तैयार करने हेतु यह इन-हाउस मॉडल विकसित किया गया है| इस इंडेक्स को देश के निर्यातों पर प्रभाव डालने वाले विभिन्न बाह्य एवं घरेलु कारकों को ध्यान में रखते हुए देश के वस्तु निर्यातों में तिमाही आधार पर वृद्धि का पूर्वानुमान लगाने के लिए एक प्रमुख संकेतक के रूप में विकसित किया गया है|  

विस्तृत जानकारी के लिए कृपया संपर्क करें:- श्री डेविड सिनाटे, मुख्य महाप्रबंधक/ डॉ. विश्वनाथ जंध्याला, सहायक महाप्रबंधक, शोध एवं विश्लेषण समूह, भारतीय निर्यात-आयात बैंक, केंद्र एक भवन, 21वीं मंजिल, विश्व व्यापार केंद्र संकुल, कफ़ परेड, मुंबई 400005 , फ़ोन: +91-22-2286 0363/0310 /0311 , ई-मेल: dsinate@eximbankindia.in/viswanath@eximbankindia.in वेबसाइट:  www.eximbankindia.in

डिस्क्लेमर: उपर्युक्त परिणाम नीति निर्माताओं, शोधार्थियों और निर्यातकों के लिए महत्त्वपूर्ण हो सकते हैं| ये पूर्वानुमान एक्ज़िम बैंक के शोध एवं विश्लेषण समूह द्वारा निकले गए हैं | इसे इंडिया एक्ज़िम बैंक की राय न माना जाये | उपर्युक्त तिमाही के लिए ईएलआई से निकाली गयी गैर-तेल निर्यातों में वृद्धि कमोडिटी की कीमतों की अस्थिरता और मुख्य रूप से वैश्विक महामारी और इसके चलते वैश्विक अर्थव्यवस्था में अनिश्चितता के अध्यधीन है | हालिया उपलब्ध डाटा में सुधार तथा अग्रिम पूर्वानुमान पद्धति को अपनाते हुए तथा विभिन्न तिमाहियों में प्राप्त टिप्पणियों, सुझावों और फीडबैक को शामिल करते हुए इस मॉडल में लगातार सुधार किया जाता रहेगा | वास्तविक निर्यात डाटा आरबीआई के भारतीय अर्थव्यवस्था सम्बन्धी डेटाबेस से लिया गया है | 

इंडिया एक्ज़िम बैंक का पूर्वानुमान, वित्तीय वर्ष 2021 की चौथी तिमाही में सकारात्मक वृद्धि दर्ज़ करते हुए भारत का वस्तु निर्यात 78.6 बिलियन यूएस डॉलर तथा भारत का गैर-तेल निर्यात 73.9 बिलियन यूएस डॉलर रहेगा

प्रिंट करें

भारतीय निर्यात-आयात बैंक (इंडिया एक्ज़िम बैंक) द्वारा जारी पूर्वानुमानों के अनुसार  वित्तीय वर्ष 2020 -21 की चौथी तिमाही के लिए भारत का कुल मर्चेंडाइज़ निर्यात 4.9% की वृद्धि दर्ज करते हुए गत वर्ष की इसी तिमाही के 73.9 बिलियन की तुलना में 78.6 बिलियन यू एस डॉलर रहेगा। साथ ही गैर-तेल निर्यात भी 12% की वृद्धि के साथ गत वर्ष की इसी तिमाही के 65.9 बिलियन यू एस डॉलर से बढ़कर 74.9 बिलियन यूएस डॉलर रहेगा।परिणाम स्वरूप, वर्ष 2019-20 की तुलना में 10.8% की कमी दर्ज करते हुए वर्ष 2020-21 में कुल निर्यात 279.4 बिलियन यूएस डॉलर रहने  का अनुमान है।गैर तेल निर्यात भी वर्ष 2019-20 की तुलना में 5.6% की कमी दर्ज करते हुए वर्ष 2020-21 में 256.8 बिलियन यूएस डॉलर रहने का अनुमान है।भारतीय पेट्रोलियम उत्पादों के निर्यात में कमी का मुख्य कारण वैश्विक स्तर पर खासकर परिवहन तथा लॉजिस्टिक क्षेत्र में मांग में कमी है। महामारी के कारण वैश्विक स्तर पर व्यापार में मंदी को ध्यान में रखते हुए भारत से गैर-तेल का निर्यात लोचदार रहा है। तमाम तरह के गंभीर अवरोधों तथा लॉजिस्टिक बाधाओं के बावजूद भी भारतीय निर्यातों में वृद्धि सकारात्मक रही है।    

इंडिया एक्ज़िम बैंक द्वारा भारत के कुल वस्तु निर्यातों और गैर-तेल निर्यातों में वृद्धि के पूर्वानुमान तिमाही आधार पर संबंधित तिमाहियों के लिए जून, सितंबर, दिसंबर और मार्च के पहले सप्ताह में जारी किए जाते हैं। इस मॉडल में निरंतर सुधार का प्रयास किया जाता है। यह पूर्वानुमान इंडिया एक्ज़िम बैंक के एक्सपोर्ट लीडिंग इंडेक्स (ELI) मॉडल पर आधारित हैं, जिसमें इस तिमाही में  वृद्धि देखी गई है। अप्रैल-जून 2021 तिमाही के लिए भारत के निर्यातों में वृद्धि के पूर्वानुमान जून 2021 के पहले सप्ताह में जारी किए जाएंगे।

इस मॉडल तथा इससे प्राप्तर पूर्वानुमान संबंधी परिणामों की समीक्षा विशेषज्ञों की एक स्था्ई तकनीकी समिति द्वारा की गई है। इस समिति के सदस्यों  में प्रोफेसर सैकत सिन्हा रॉय, प्रोफेसर एवं संयोजक, सेंटर फॉर एडवांस स्टगडीज, अर्थशास्त्र  विभाग, जादवपुर विश्वयविद्यालय कोलकाता; डॉ. सरत धल, निदेशक, अर्थशास्त्रं और नीति अनुसंधान विभाग, भारतीय रिज़र्व बैंक, मुंबई; प्रोफेसर एन.आर. भानुमूर्ति, वाइस चांसलर, बीएएसई यूनिवर्सिटी, बेंगलूरू; तथा प्रोफेसर सी. वीरामणि, प्रोफेसर, इंदिरा गांधी इंस्टीाट्यूट ऑफ डेवलपमेंट रिसर्च (IGIDR), मुंबई शामिल हैं। 

एक्ज़िम बैंक द्वारा अपने निरंतर शोध प्रयासों की कड़ी में भारत के निर्यातों का तिमाही आधार पर ट्रैक रखने तथा वृद्धिमें पूर्वानुमान के लिए एक्स पोर्ट लीडिंग इंडेक्स  (ELI) तैयार करने हेतु यह इन-हाउस मॉडल विकसित किया गया है। इस इंडेक्स को देश के निर्यातों पर प्रभाव डालने वाले विभिन्न बाह्य एवं घरेलू कारकों को ध्यान में रखते हुए देश के वस्तुन निर्यातों में तिमाही आधार पर वृद्धिल का पूर्वानुमान लगाने के लिए एक प्रमुख संकेतक के रूप में विकसित किया गया है।  

विस्तृत जानकारी के लिए कृपया संपर्क करें-

श्री डेविड सिनाटे, मुख्यप महाप्रबंधक/ डॉ. विश्वरनाथ जंध्यााला, सहायक महाप्रबंधक,
शोध एवं विश्लेनषण समूह,
भारतीय निर्यात-आयात बैंक, केन्द्र भवन,
21वीं मंजिल, विश्वप व्यापार केन्द्र संकुल, कफ़ परेड, मुम्बई 400005
टेलीफोनः +91-22-2286 0363/ 0310/ 0311
ई-मेलःdsinate@eximbankindia.in/ viswanath@eximbankindia.in
वेबसाइटः  www.eximbankindia.in
______________________

डिस्क्लेमरः उपर्युक्त परिणाम नीति निर्माताओं, शोधार्थियों और निर्यातकों के लिए महत्त्वपूर्ण हो सकते हैं। ये पूर्वानुमान एक्ज़िम बैंक के शोध एवं विश्लेषण समूह द्वारा निकाले गए हैं। इसे इंडिया एक्ज़िम बैंक की राय न माना जाए। उपर्युक्त तिमाही के लिए ईएलआई से निकाली गई गैर-तेल निर्यातों में वृद्धि कमोडिटी की कीमतों की अस्थिरता और मुख्य  रूप से वैश्विक महामारी और इसके चलते वैश्विक अर्थव्य वस्थाम में अनिश्चितता के अध्यएधीन है। हालिया उपलब्ध डाटा में सुधार तथा अग्रिम पूर्वानुमान पद्धति को अपनाते हुए तथा विभिन्न तिमाहियों में प्राप्त टिप्पणियों, सुझावों और फीडबैक को शामिल करते हुए इस मॉडल में लगातार सुधार किया जाता रहेगा। वास्तविक निर्यात डाटा भारतीय अर्थव्यवस्था पर आरबीआई के आंकड़ों से लिया गया है।

एक्ज़िम बैंक का पूर्वानुमान, वित्तीय वर्ष 2021 की तीसरी तिमाही में भारत का गैर-तेल निर्यात 68.3 बिलियन की मामूली सकारात्‍मक वार्षिक वृद्धि दर्ज करेगा

प्रिंट करें

भारतीय निर्यात-आयात बैंक (एक्ज़िम बैंक) द्वारा वित्तीय वर्ष 2021 की तीसरी तिमाही के लिए पूर्वानुमान के अनुसार भारत का गैर-तेल निर्यात पिछले वर्ष की इसी तिमाही के मुकाबले 0.3 प्रतिशत की मामूली सकारात्‍मक वृद्धि दर्ज करते हुए 68.3 बिलियन यूएस डॉलर रहने का अनुमान है। वहीं दूसरी ओर, 2020-21 की तीसरी तिमाही में कुल मर्चेंडाइज निर्यात 77.6 बिलियन यूएस डॉलर आंका गया है, जो गत वर्ष की इसी तिमाही में यह 79 बिलियन यूएस डॉलर था। यह मार्च 2020 से भारत के तेल निर्यातों में हुई लगातार और भारी गिरावट के परिप्रेक्ष्‍य में है। यह पूर्वानुमान एक्‍ज़ि‍म बैंक के एक्‍सपोर्ट लीडिंग इंडेक्‍स (ई एल आई) मॉडल पर आधारित है।

भारत के कुल वस्तु निर्यातों और गैर-तेल निर्यातों में वृद्धि के पूर्वानुमान तिमाही आधार पर संबंधित तिमाही के लिए जून, सितंबर, दिसंबर और मार्च के पहले सप्ताह में जारी किए जाते हैं। इस मॉडल में निरंतर सुधार का प्रयास किया जाता है। जनवरी-मार्च 2021 तिमाही के लिए भारत के निर्यातों में वृद्धि के पूर्वानुमान मार्च 2021 के पहले सप्ताह में जारी किए जाएंगे।

इस मॉडल तथा इससे प्राप्‍त पूर्वानुमान संबंधी परिणामों की समीक्षा विशेषज्ञों की एक स्‍थाई तकनीकी समिति द्वारा की गई है। इस समिति के सदस्‍यों में प्रोफेसर सैकत सिन्‍हा रॉय, प्रोफेसर एवं संयोजक, सेंटर फॉर एडवांस स्‍टडीज, अर्थशास्‍त्र विभाग, जादवपुर विश्‍वविद्यालय कोलकाता; डॉ. सरत धल, निदेशक, अर्थशास्‍त्र और नीति अनुसंधान विभाग, भारतीय रिज़र्व बैंक, मुंबई; प्रोफेसर एन.आर. भानुमूर्ति, वाइस चांसलर, बीएएसई यूनिवर्सिटी, बेंगलूरू; तथा प्रोफेसर सी. वीरामणि, प्रोफेसर, इंदिरा गांधी इंस्‍टीट्यूट ऑफ डेवलपमेंट रिसर्च (आई जी आई डी आर), मुंबई शामिल हैं।  

एक्‍ज़ि‍म बैंक द्वारा अपने निरंतर शोध प्रयासों की कड़ी में भारत के निर्यातों का तिमाही आधार पर ट्रैक रखने तथा वृद्धि में पूर्वानुमान के लिए एक्‍सपोर्ट लीडिंग इंडेक्‍स (ई एल आई) तैयार करने हेतु यह इन-हाउस मॉडल विकसित किया गया है। इस इंडेक्स को देश के निर्यातों पर प्रभाव डालने वाले विभिन्न बाह्य एवं घरेलू कारकों को ध्‍यान में रखते हुए देश के वस्‍तु निर्यातों में तिमाही आधार पर वृद्ध‍ि का पूर्वानुमान लगाने के लिए एक प्रमुख संकेतक के रूप में विकसित किया गया है।  

विस्‍तृत जानकारी के लिए कृपया संपर्क करें- 

श्री डेविड सिनाटे, मुख्‍य महाप्रबंधक/ डॉ. विश्‍वनाथ जंध्‍याला, सहायक महाप्रबंधक, शोध एवं विश्‍लेषण समूह, 

भारतीय निर्यात-आयात बैंक, केन्‍द्र एक भवन, 

21वीं मंजिल, विश्‍व व्‍यापार केन्‍द्र संकुल, कफ़ परेड, मुम्‍बई  400005 

टेलीफोनः +91-22-2217 2701/ 2708/ 2711 

फैक्‍सः (022) 22182572, 

ई-मेलः dsinate@eximbankindia.in/ viswanath@eximbankindia.in 

वेबसाइटः  www.eximbankindia.in

डिस्क्लेमरः उपर्युक्त परिणाम नीति निर्माताओं, शोधार्थियों और निर्यातकों के लिए महत्त्वपूर्ण हो सकते हैं। ये पूर्वानुमान एक्ज़िम बैंक के शोध एवं विश्लेषण समूह द्वारा निकाले गए हैं। इसे एक्ज़िम बैंक की राय न माना जाए। उपर्युक्त तिमाही के लिए ईएलआई से निकाली गई गैर-तेल निर्यातों में वृद्धि कमोडिटी की कीमतों की अस्थिरता और मुख्‍य रूप से वैश्विक महामारी और इसके चलते वैश्विक अर्थव्‍यवस्‍था में अनिश्चितता से आई मंदी के अध्‍यधीन है। हालिया उपलब्ध डाटा में सुधार तथा अग्रिम पूर्वानुमान पद्धति को अपनाते हुए तथा विभिन्न तिमाहियों में प्राप्त टिप्पणियों, सुझावों और फीडबैक को शामिल करते हुए इस मॉडल में लगातार सुधार किया जाता रहेगा। वास्तविक निर्यात डाटा भारतीय अर्थव्यवस्था पर आरबीआई के आंकड़ों से लिया गया है। 

 

एक्ज़िम बैंक का पूर्वानुमान, भारत का वस्तु निर्यात वित्तीय वर्ष 2020 की दूसरी तिमाही में 0.6 प्रतिशत की दर से बढ़ेगा

प्रिंट करें

भारतीय निर्यात-आयात बैंक (एक्ज़िम बैंक) ने वित्तीय वर्ष 2019-20 की तीसरी तिमाही यानी जुलाई-सितम्‍बर 2020 के दौरान, पिछले वर्ष की इसी तिमाही के मुकाबले भारत के कुल वस्तु निर्यातों में 81.4 अरब यू एस डॉलर से 82 अरब यू एस डॉलर की वृद्धि (0.6 प्रतिशत की प्रत्‍याशित वृद्धि) होने का पूर्वानुमान लगाया है। यह पूर्वानुमान एक्‍ज़ि‍म बैंक के एक्‍सपोर्ट लीडिंग इंडेक्‍स (ई एल आई) मॉडल पर आधारित हैं। भारत के कुल वस्तु निर्यातों में वृद्धि का पूर्वानुमान हर तिमाही आधार पर संबंधित तिमाही के लिए जून, सितंबर, दिसंबर और मार्च के पहले सप्ताह में जारी किया जाएगा और इस मॉडल में भी निरंतर सुधार का प्रयास किया जाता रहेगा। अक्‍तूबर-दिसंबर 2019 तिमाही के लिए भारत के निर्यातों में वृद्धि का अगला पूर्वानुमान दिसंबर 2019 के पहले सप्ताह में जारी किया जाएगा। 

इस मॉडल तथा इससे प्राप्‍त पूर्वानुमान संबंधी परिणामों की समीक्षा विशेषज्ञों की एक स्‍थाई तकनीकी समिति द्वारा की गई है। इस समिति के सदस्‍यों में प्रोफेसर सैकत सिन्‍हा रॉय, प्रोफेसर एवं संयोजक, सेंटर फॉर एडवांस स्‍टडीज, अर्थशास्‍त्र विभाग, जादवपुर विश्‍वविद्यालय कोलकाता; डॉ. सरत धल, निदेशक, अर्थशास्‍त्र और नीति अनुसंधान विभाग, भारतीय रिज़र्व बैंक, कोलकाता; प्रोफेसर एन.आर. भानुमूर्ति, प्रोफेसर, नेशनल इंडस्‍टीट्यूट ऑफ पब्लिक फायनेंस एंड पॉलिसी (एन आई पी एफ पी), नई दिल्‍ली तथा प्रोफेसर सी. वीरामणि, प्रोफेसर, इंदिरा गांधी इंस्‍टीट्यूट ऑफ डेवलपमेंट रिसर्च (आई जी आई डी आर), मुंबई शामिल हैं।  

अपने शोध प्रयासों की कड़ी में एक्‍ज़ि‍म बैंक भारत के निर्यातों का तिमाही आधार पर ट्रैक रखने तथा वृद्धि में पूर्वानुमान के लिए एक्‍सपोर्ट लीडिंग इंडेक्‍स (ई एल आई) तैयार करने हेतु विकसित यह इन-हाउस मॉडल है। यह इंडेक्स देश के निर्यातों पर प्रभाव डालने वाले विभिन्न बाह्य एवं घरेलू कारकों को ध्‍यान में रखते हुए कुल वस्‍तु एवं गैर-तेल निर्यातों में तिमाही आधार पर वृद्ध‍ि का पूर्वानुमान लगाने के लिए एक प्रमुख संकेतक के रूप में विकसित किया गया है।   

___________________________________________________________________________________

विस्‍तृत जानकारी के लिए कृपया संपर्क करें-
श्री डेविड सिनाटे, मुख्‍य महाप्रबंधक/डॉ. विश्‍वनाथ जंध्‍याला, मुख्‍य प्रबंधक, शोध एवं विश्‍लेषण समूह,
भारतीय निर्यात-आयात बैंक, केन्‍द्र एक भवन,
21वीं मंजिल, विश्‍व व्‍यापार केन्‍द्र संकुल, कफ़ परेड, मुम्‍बई  400005
टेलीफोनः +91-22-2217 2701/ 2708/ 2711
ई-मेलः dsinate@eximbankindia.in/ viswanath@eximbankindia.in
वेबसाइटःwww.eximbankindia.in

___________________________________________________________________________________

डिस्क्लेमरः उपर्युक्त परिणाम नीति निर्माताओं, शोधार्थियों और निर्यातकों के लिए महत्त्वपूर्ण हो सकते हैं। ये पूर्वानुमान एक्ज़िम बैंक के शोध एवं विश्लेषण समूह द्वारा तैयार किए गए हैं। इसे एक्ज़िम बैंक की राय न माना जाए। एक्‍सपोर्ट लीडिंग इंडेक्‍स (ई एल आई) से प्राप्त तिमाही के लिए वृद्धि पूर्वानुमान वैश्विक अर्थव्यवस्था में कमोडिटी मूल्य अस्थिरता और कुछ प्रमुख विकसित और उभरती बाजार अर्थव्यवस्थाओं द्वारा अपनाए गए व्यापार सुरक्षा उपायों सहित मुख्य रूप से हालिया घटनाओं से उत्‍पन्‍न अनिश्चितताओं के अधीन हो सकते हैं। अद्यतन डाटा में सुधार, उन्‍नत पूर्वानुमान पद्धतियां तथा विभिन्न तिमाहियों में प्राप्त टिप्पणियों, सुझावों और फीडबैक को शामिल करते हुए इस मॉडल में लगातार सुधार किया जाता रहेगा। वास्तविक निर्यात डाटा भारतीय अर्थव्यवस्था पर आरबीआई के आंकड़ों से लिया गया है।

एक्ज़िम बैंक का पूर्वानुमान- भारत के वस्तु तथा गैर तेल निर्यात में सकारात्मक वृद्धि के संकेत, वित्तीय वर्ष 2020 की पहली तिमाही में वर्ष दर वर्ष आधार पर यह क्रमशः 2.5 प्रतिशत और 4.2 प्रतिशत की दर से बढ़ेगा

प्रिंट करें

भारतीय निर्यात-आयात बैंक (एक्ज़िम बैंक) ने वित्तीय वर्ष 2019-20 की पहली तिमाही यानी अप्रैल- जून, 2019 के दौरान, पिछले वर्ष की इसी तिमाही के मुकाबले भारत के कुल वस्तु निर्यात के 81.9 अरब यू एस डॉलर से 84.0 अरब यू एस डॉलर (2.5% प्रतिशत की अनुमानित वृद्धि) तथा गैर-तेल निर्यातों के 70.1 अरब यू एस डॉलर से 73.0 अरब यू एस डॉलर  (4.2  प्रतिशत की अनुमानित वृद्धि)  होने का पूर्वानुमान लगाया है। यह पूर्वानुमान एक्‍ज़ि‍म बैंक के एक्‍सपोर्ट लीडिंग इंडेक्‍स (ई एल आई) मॉडल पर आधारित है। भारत के कुल वस्तु निर्यातों और गैर-तेल निर्यातों में वृद्धि का पूर्वानुमान हर तिमाही आधार पर संबंधित तिमाही के लिए जून, सितंबर, दिसंबर और मार्च के पहले सप्ताह में जारी किया जाएगा और इस मॉडल में भी निरंतर सुधार का प्रयास किया जाता रहेगा। जुलाई-सितंबर 2019 तिमाही के लिए भारत के निर्यातों में वृद्धि का अगला पूर्वानुमान सितंबर 2019 के पहले सप्ताह में जारी किया जाएगा।

एक्जिम बैंक ने, वित्तीय वर्ष 2018-19 के लिए, ईएलआई मॉडल पर आधारित, भारत के वस्तु निर्यात को 331.8 अरब यू एस डॉलर तक पहुंचने का अनुमान लगाया था, जो यूएस डॉलर 331.02 बिलियन के आधिकारिक अनुमानों के अनुरूप है।

इस मॉडल तथा इससे प्राप्‍त पूर्वानुमान संबंधी परिणामों की समीक्षा विशेषज्ञों की एक स्‍थाई तकनीकी समिति द्वारा की गई है। इस समिति के सदस्‍यों में प्रोफेसर सैकत सिन्‍हा रॉय, प्रोफेसर एवं संयोजक, सेंटर फॉर एडवांस स्‍टडीज, अर्थशास्‍त्र विभाग, जादवपुर विश्‍वविद्यालय कोलकाता; डॉ. सरत धल, निदेशक, अर्थशास्‍त्र और नीति अनुसंधान विभाग, भारतीय रिज़र्व बैंक, कोलकाता; प्रोफेसर एन.आर. भानुमूर्ति, प्रोफेसर, नेशनल इंडस्‍टीट्यूट ऑफ पब्लिक फायनेंस एंड पॉलिसी (एन आई पी एफ पी), नई दिल्‍ली तथा प्रोफेसर सी. वीरामणि, प्रोफेसर, इंदिरा गांधी इंस्‍टीट्यूट ऑफ डेवलपमेंट रिसर्च (आई जी आई डी आर), मुंबई शामिल हैं। 

अपने शोध प्रयासों की कड़ी में एक्‍ज़ि‍म बैंक भारत के निर्यातों का तिमाही आधार पर ट्रैक रखने तथा वृद्धि में पूर्वानुमान के लिए एक्‍सपोर्ट लीडिंग इंडेक्‍स (ई एल आई) तैयार करने हेतु विकसित यह इन-हाउस मॉडल है। यह इंडेक्स देश के निर्यातों पर प्रभाव डालने वाले विभिन्न बाह्य एवं घरेलू कारकों को ध्‍यान में रखते हुए कुल वस्‍तु एवं गैर-तेल निर्यातों में तिमाही आधार पर वृद्ध‍ि का पूर्वानुमान लगाने के लिए एक प्रमुख संकेतक के रूप में विकसित किया गया है।  

विस्‍तृत जानकारी के लिए कृपया संपर्क करें-

श्री डेविड सिनाटे, मुख्‍य महाप्रबंधक/ डॉ. विश्‍वनाथ जंध्‍याला, मुख्‍य प्रबंधक, शोध एवं विश्‍लेषण समूहभारतीय निर्यात-आयात बैंक, केन्‍द्र एक भवन21वीं मंजिल, विश्‍व व्‍यापार केन्‍द्र संकुल, कफ़ परेड, मुम्‍बई  400005
टेलीफोनः +91-22-2217 2701/ 2708/ 2711
फैक्‍सः (022) 22182572,
ई-मेलः dsinate@eximbankindia.in/ viswanath@eximbankindia.in
वेबसाइटः  www.eximbankindia.in

डिस्क्लेमरः उपर्युक्त परिणाम नीति निर्माताओं, शोधार्थियों और निर्यातकों के लिए महत्त्वपूर्ण हो सकते हैं। ये पूर्वानुमान एक्ज़िम बैंक के शोध एवं विश्लेषण समूह द्वारा तैयार किए गए हैं। इसे एक्ज़िम बैंक की राय न माना जाए। एक्‍सपोर्ट लीडिंग इंडेक्‍स (ई एल आई) से प्राप्त तिमाही के लिए वृद्धि पूर्वानुमान वैश्विक अर्थव्यवस्था में कमोडिटी मूल्य अस्थिरता और कुछ प्रमुख विकसित और उभरती बाजार अर्थव्यवस्थाओं द्वारा अपनाए गए व्यापार सुरक्षा उपायों तथा अमेरिका द्वारा जी एस पी की वापसी से उत्‍पन्‍न अनिश्चितताओं के अधीन हो सकते हैं। अद्यतन डाटा में सुधार, उन्‍नत पूर्वानुमान पद्धतियां तथा विभिन्न तिमाहियों में प्राप्त टिप्पणियों, सुझावों और फीडबैक को शामिल करते हुए इस मॉडल में लगातार सुधार किया जाता रहेगा। वास्तविक निर्यात डाटा भारतीय अर्थव्यवस्था पर आरबीआई के आंकड़ों से लिया गया है।

एक्ज़िम बैंक का पूर्वानुमान, भारत का वस्तु निर्यात वित्तीय वर्ष 2019 की चौथीतिमाही में 7.7 प्रतिशत की दर से बढ़ेगा तथा गत वर्ष की इसी तिमाही के मुकाबले इस तिमाही में भारत का गैर-तेल निर्यात 5.1 प्रतिशत बढ़ेगा

प्रिंट करें

भारतीय निर्यात-आयात बैंक (एक्ज़िम बैंक) ने वित्तीय वर्ष 2018-19 की चौथी तिमाही यानी जनवरी-मार्च 2019 के दौरान, पिछले वर्ष की इसी तिमाही के मुकाबले भारत के कुल वस्तु निर्यातों में 7.7 प्रतिशत (80.6 अरब यू एस डॉलर से 86.8 अरब यू एस डॉलर की वृद्धि) तथा गैर-तेल निर्यातों में 5.1 प्रतिशत (70.0 अरब यू एस डॉलर से 73.6 अरब यू एस डॉलर) की वृद्धि होने का पूर्वानुमान लगाया है। यह पूर्वानुमान एक्‍ज़ि‍म बैंक के एक्‍सपोर्ट लीडिंग इंडेक्‍स (ईएलआई) मॉडल पर आधारित हैं, जिसमें निरंतर वृद्धि देखी गई है। भारत के कुल वस्तु निर्यातों और गैर-तेल निर्यातों में वृद्धि का पूर्वानुमान हर तिमाही आधार पर संबंधित तिमाही के लिए जून, सितंबर, दिसंबर और मार्च के पहले सप्ताह में जारी किया जाएगा और इस मॉडल में भी निरंतर सुधार का प्रयास किया जाता रहेगा। अप्रैल-जून 2019 तिमाही के लिए भारत के निर्यातों में वृद्धि का अगला पूर्वानुमान जून 2019 के पहले सप्ताह में जारी किया जाएगा।

इस मॉडल तथा इससे प्राप्‍त पूर्वानुमान संबंधी परिणामों की समीक्षा विशेषज्ञों की एक स्‍थाई तकनीकी समिति द्वारा की गई है। इस समिति के सदस्‍यों में प्रोफेसर सैकत सिन्‍हा रॉय, प्रोफेसर एवं संयोजक, सेंटर फॉर एडवांस स्‍टडीज, अर्थशास्‍त्र विभाग, जादवपुर विश्‍वविद्यालय कोलकाता; डॉ. सरत धल, निदेशक, अर्थशास्‍त्र और नीति अनुसंधान विभाग, भारतीय रिज़र्व बैंक, मुंबई; प्रोफेसर एन.आर. भानुमूर्ति, प्रोफेसर, नेशनल इंडस्‍टीट्यूट ऑफ पब्लिक फायनेंस एंड पॉलिसी (एन आई पी एफ पी), नई दिल्‍ली तथा प्रोफेसर सी. वीरामणि, प्रोफेसर, इंदिरा गांधी इंस्‍टीट्यूट ऑफ डेवलपमेंट रिसर्च (आई जी आई डी आर), मुंबई शामिल हैं।

अपने शोध प्रयासों की कड़ी में एक्‍ज़ि‍म बैंक भारत के निर्यातों का तिमाही आधार पर ट्रैक रखने तथा वृद्धि में पूर्वानुमान के लिए एक्‍सपोर्ट लीडिंग इंडेक्‍स (ईएलआई) तैयार करने हेतु विकसित यह इन-हाउस मॉडल है। यह इंडेक्स देश के निर्यातों पर प्रभाव डालने वाले विभिन्न बाह्य एवं घरेलू कारकों को ध्‍यान में रखते हुए कुल वस्‍तु एवं गैर-तेल निर्यातों में तिमाही आधार पर वृद्ध‍ि का पूर्वानुमान लगाने के लिए एक प्रमुख संकेतक के रूप में विकसित किया गया है।

विस्‍तृत जानकारी के लिए कृपया संपर्क करें-
श्री डेविड सिनाटे, मुख्‍य महाप्रबंधक/ डॉ. विश्‍वनाथ जंध्‍याला, मुख्‍य प्रबंधक, शोध एवं विश्‍लेषण समूह,
भारतीय निर्यात-आयात बैंक, केन्‍द्र एक भवन,
21वीं मंजिल, विश्‍व व्‍यापार केन्‍द्र संकुल, कफ़ परेड, मुम्‍बई  400005
टेलीफोनः +91-22-2217 2701/ 2708/ 2711
फैक्‍सः (022) 22182572,
ई-मेलः dsinate@eximbankindia.in/ viswanath@eximbankindia.in
वेबसाइटः  www.eximbankindia.in

एक्ज़िम बैंक का पूर्वानुमान, भारत का वस्तु निर्यात वित्तीय वर्ष 2019 की तीसरी तिमाही में 7 प्रतिशत की दर से बढ़ेगा तथा गत वर्ष की इसी तिमाही के मुकाबले इस तिमाही में भारत का गैर-तेल निर्यात 7.2 प्रतिशत बढ़ेगा

प्रिंट करें

भारतीय निर्यात-आयात बैंक (एक्ज़िम बैंक) ने वित्तीय वर्ष 2018-19 की तीसरी तिमाही यानी अक्टूमबर-दिसम्बर 2018 के दौरान, पिछले वर्ष की इसी तिमाही के मुकाबले भारत के कुल वस्तु निर्यातों में 7 प्रतिशत (77 अरब यू एस डॉलर से 82.39 अरब यू एस डॉलर की वृद्धि) तथा गैर-तेल निर्यातों में 7.2 प्रतिशत (66.65 अरब यू एस डॉलर से 71.45 अरब यू एस डॉलर) की वृद्धि होने का पूर्वानुमान लगाया है। यह पूर्वानुमान एक्ज़ि्‍म बैंक के एक्सपोर्ट लीडिंग इंडेक्सर (ई एल आई) मॉडल पर आधारित हैं, जिसमें निरंतर वृद्धि देखी गई है। भारत के कुल वस्तु निर्यातों और गैर-तेल निर्यातों में वृद्धि का पूर्वानुमान हर तिमाही आधार पर संबंधित तिमाही के लिए जून, सितंबर, दिसंबर और मार्च के पहले सप्ताह में जारी किया जाएगा और इस मॉडल में भी निरंतर सुधार का प्रयास किया जाता रहेगा। जनवरी-मार्च 2019 तिमाही के लिए भारत के निर्यातों में वृद्धि का अगला पूर्वानुमान मार्च 2019 के पहले सप्ताह में जारी किया जाएगा।

इस मॉडल तथा इससे प्राप्त पूर्वानुमान संबंधी परिणामों की समीक्षा विशेषज्ञों की एक स्थाई तकनीकी समिति द्वारा की गई है। इस समिति के सदस्यों  में प्रोफेसर सैकत सिन्हा रॉय, प्रोफेसर एवं संयोजक, सेंटर फॉर एडवांस स्टडीज, अर्थशास्त्र विभाग, जादवपुर विश्वविद्यालय कोलकाता; डॉ. सरत धल, निदेशक, अर्थशास्त्रक और नीति अनुसंधान विभाग, भारतीय रिज़र्व बैंक, कोलकाता; प्रोफेसर एन.आर. भानुमूर्ति, प्रोफेसर, नेशनल इंडस्टीाट्यूट ऑफ पब्लिक फायनेंस एंड पॉलिसी (एन आई पी एफ पी), नई दिल्ली तथा प्रोफेसर सी. वीरामणि, प्रोफेसर, इंदिरा गांधी इंस्टीट्यूट ऑफ डेवलपमेंट रिसर्च (आई जी आई डी आर), मुंबई शामिल हैं।

अपने शोध प्रयासों की कड़ी में एक्ज़िं‍म बैंक भारत के निर्यातों का तिमाही आधार पर ट्रैक रखने तथा वृद्धि में पूर्वानुमान के लिए एक्स़पोर्ट लीडिंग इंडेक्स (ई एल आई) तैयार करने हेतु विकसित यह इन-हाउस मॉडल है। यह इंडेक्स देश के निर्यातों पर प्रभाव डालने वाले विभिन्न बाह्य एवं घरेलू कारकों को ध्यान में रखते हुए कुल वस्तु एवं गैर-तेल निर्यातों में तिमाही आधार पर वृद्धि का पूर्वानुमान लगाने के लिए एक प्रमुख संकेतक के रूप में विकसित किया गया है। 

विस्तृत जानकारी के लिए कृपया संपर्क करें-
श्री डेविड सिनाटे, मुख्यप महाप्रबंधक/ डॉ. विश्वलनाथ जंध्यारला, मुख्यस प्रबंधक, शोध एवं विश्लेषण समूह,
भारतीय निर्यात-आयात बैंक, केन्द्रक एक भवन,
21वीं मंजिल, विश्वप व्यानपार केन्द्रन संकुल, कफ़ परेड, मुम्बई  400005
टेलीफोनः +91-22-2217 2701/ 2708/ 2711
फैक्सःन (022) 22182572,
ई-मेलः dsinate@eximbankindia.in/ viswanath@eximbankindia.in
वेबसाइटः  www.eximbankindia.in

डिस्क्लेमरः उपर्युक्त परिणाम नीति निर्माताओं, शोधार्थियों और निर्यातकों के लिए महत्त्वपूर्ण हो सकते हैं। ये पूर्वानुमान एक्ज़िम बैंक के शोध एवं विश्लेषण समूह द्वारा तैयार किए गए हैं। इसे एक्ज़िम बैंक की राय न माना जाए। एक्स़पोर्ट लीडिंग इंडेक्सस (ई एल आई) से प्राप्त तिमाही के लिए वृद्धि पूर्वानुमान वैश्विक अर्थव्यवस्था में कमोडिटी मूल्य अस्थिरता और कुछ प्रमुख विकसित और उभरती बाजार अर्थव्यवस्थाओं द्वारा अपनाए गए व्यापार सुरक्षा उपायों सहित मुख्य रूप से हालिया घटनाओं से उत्पन्न अनिश्चितताओं के अधीन हो सकते हैं।अद्यतन डाटा में सुधार, उन्नत पूर्वानुमान पद्धतियां तथा विभिन्न तिमाहियों में प्राप्त टिप्पणियों, सुझावों और फीडबैक को शामिल करते हुए इस मॉडल में लगातार सुधार किया जाता रहेगा। वास्तविक निर्यात डाटा भारतीय अर्थव्यवस्था पर आरबीआई के आंकड़ों से लिया गया है।

एक्ज़िम बैंक का पूर्वानुमान, वित्तीय वर्ष 2019 की दूसरी तिमाही में भारत का वस्तु निर्यात12.3 प्रतिशत और गैर-तेल निर्यात 12.4 प्रतिशत की दर से बढ़ेगा

प्रिंट करें

भारतीय निर्यात-आयात बैंक (एक्ज़िम बैंक) ने अपने आंतरिक एक्सपोर्ट लीडिंग इंडेक्स मॉडल के आधार पर वित्तीय वर्ष 2018-19 की दूसरी तिमाही यानी जुलाई-सितंबर 2018 के दौरान, पिछले वर्ष की इसी तिमाही के मुकाबले भारत के कुल वस्तु निर्यातों में 12.3 प्रतिशत तथा गैर-तेल निर्यातों में 12.4 प्रतिशत की वृद्धि होने का पूर्वानुमान लगाया है। यह पूर्वानुमान एक्ज़िी‍म बैंक के एक्सरपोर्ट लीडिंग इंडेक्स  (ई एल आई) मॉडल पर आधारित है, जिसमें निरंतर सकारात्मक वृद्धि दिखाई देती है। भारत के कुल वस्तु निर्यातों और गैर-तेल निर्यातों में वृद्धि का पूर्वानुमान हर तिमाही आधार पर संबंधित तिमाही के लिए जून, सितंबर, दिसंबर और मार्च के पहले सप्ताह में जारी किया जाता रहेगा और इस मॉडल में भी निरंतर सुधार का प्रयास किया जाता रहेगा। अक्टूबर-दिसंबर 2018 तिमाही के लिए भारत के निर्यातों में वृद्धि का पूर्वानुमान दिसंबर 2018 के पहले सप्ताह में जारी किया जाएगा।

इस मॉडल तथा इससे प्राप्ते पूर्वानुमान संबंधी परिणामों की समीक्षा विशेषज्ञों की एक स्थाई तकनीकी समिति द्वारा की गई है। इस समिति के सदस्यों  में प्रोफेसर सैकत सिन्हाप रॉय, प्रोफेसर एवं संयोजक, सेंटर फॉर एडवांस स्टाडीज, अर्थशास्त्र  विभाग, जादवपुर विश्वाविद्यालयकोलकाता;डॉ. सरत धल, निदेशक, अर्थशास्त्र। और नीति अनुसंधान विभाग, भारतीय रिज़र्व बैंक, कोलकाता;प्रोफेसर एन.आर. भानुमूर्ति, प्रोफेसर, नेशनल इंडस्टीरट्यूट ऑफ पब्लिक फायनेंस एंड पॉलिसी (एन आई पी एफ पी), नई दिल्लीए तथा प्रोफेसर सी. वीरामणि, प्रोफेसर, इंदिरा गांधी इंस्टी ट्यूट ऑफ डेवलपमेंट रिसर्च (आई जी आई डी आर), मुंबई शामिल हैं।

एक्ज़िम बैंक द्वारा अपने निरंतर शोध प्रयासों की कड़ी में भारत के निर्यातों का तिमाही आधार पर ट्रैक रखने तथा वृद्धिमें पूर्वानुमान के लिए एक्सतपोर्ट लीडिंग इंडेक्सर (ई एल आई) तैयार करने हेतु यह इन-हाउस मॉडल विकसित किया गया है। इस इंडेक्स को देश के निर्यातों पर प्रभाव डालने वाले विभिन्न बाह्य एवं घरेलू कारकों को ध्या न में रखते हुए इस मॉडल को देश के वस्तुक निर्यातों में तिमाही आधार पर वृद्धिन का पूर्वानुमान लगाने के लिए एक प्रमुख संकेतक के रूप में विकसित किया गया है।

विस्तृत जानकारी के लिए कृपया संपर्क करें-
श्री डेविड सिनाटे, मुख्य महाप्रबंधक/ डॉ. विश्वंनाथ जंध्या ला, मुख्यख प्रबंधक, शोध एवं विश्लेिषण समूह,
भारतीय निर्यात-आयात बैंक, केन्द्रक एक भवन,
21वीं मंजिल, विश्वn व्या‍पार केन्द्र  संकुल, कफ़ परेड, मुम्बुई  400005
टेलीफोनः +91-22-2217 2701/ 2708/ 2711
फैक्सःन (022) 22182572,
ई-मेलः dsinate@eximbankindia.in/ viswanath@eximbankindia.in
वेबसाइटः  www.eximbankindia.in

डिस्क्लेमरः उपर्युक्त परिणाम नीति निर्माताओं, शोधार्थियों और निर्यातकों के लिए महत्त्वपूर्ण हो सकते हैं। ये पूर्वानुमान एक्ज़िम बैंक के शोध एवं विश्लेषण समूह द्वारा निकाले गए हैं। इसे एक्ज़िम बैंक की राय न माना जाए। उपर्युक्त तिमाही के लिए ईएलआई से निकाली गई गैर-तेल निर्यातों में वृद्धि का आंकड़ा, कुछ विकसित और उभरती बाजार अर्थव्यवस्थाओं द्वारा हाल ही में अपनाए गए संरक्षणवादी उपायों के चलते वैश्विक अर्थव्यवस्था की अनिश्चितताओं के अनुसार बदल सकता है।हालिया उपलब्ध डाटा में सुधार तथा अग्रिम पूर्वानुमान पद्धति को अपनाते हुए तथा विभिन्न तिमाहियों में प्राप्त टिप्पणियों, सुझावों और फीडबैक को शामिल करते हुए इस मॉडल में लगातार सुधार किया जाता रहेगा। गैर-तेल निर्यातों में वृद्धि का पूर्वानुमान पूर्ववर्ती पूर्वानुमान में वेल्यू एडिशन है। वास्तविकनिर्यात डाटा भारतीय अर्थव्यवस्था पर आरबीआई के आंकड़ों से लिया गया है।

एक्ज़िम बैंक का पूर्वानुमान, भारत का वस्तु निर्यात जून तिमाही में 10.6 प्रतिशत की दर से बढ़ेगा

प्रिंट करें

भारतीय निर्यात-आयात बैंक (एक्ज़िम बैंक) ने अपने आंतरिक एक्सपोर्ट लीडिंग इंडेक्स मॉडल के आधार पर वित्तीय वर्ष 2018-19 की पहली तिमाही यानी अप्रैल-जून 2018 के दौरान, पिछले वर्ष की इसी तिमाही के मुकाबले भारत के कुल वस्तु निर्यातों में 10.6 प्रतिशत तथा गैर-तेल निर्यातों में 6 प्रतिशत की वृद्धि होने का पूर्वानुमान लगाया है। यह पूर्वानुमान एक्ज़ि ‍म बैंक के एक्सरपोर्ट लीडिंग इंडेक्स  (ई एल आई) मॉडल पर आधारित है, जिसमें कुल वस्तु निर्यातों और गैर-तेल निर्यातों की वृद्धि क्रमशः 7.5 प्रतिशत और 7.3 प्रतिशत रही। भारत के कुल वस्तु निर्यातों और गैर-तेल निर्यातों में वृद्धि का पूर्वानुमान हर तिमाही आधार पर संबंधित तिमाही के लिए जून, सितंबर, दिसंबर और मार्च के पहले सप्ताह में जारी किया जाएगा और इस मॉडल में भी निरंतर सुधार का प्रयास किया जाता रहेगा। जुलाई-सितंबर 2018 तिमाही के लिए भारत के निर्यातों में वृद्धि का पूर्वानुमान सितंबर 2018 के पहले सप्ताह में जारी किया जाएगा।

इस मॉडल तथा इससे प्राप्ते पूर्वानुमान संबंधी परिणामों की समीक्षा विशेषज्ञों की एक स्था ई तकनीकी समिति द्वारा की गई है। इस समिति के सदस्यों  में प्रोफेसर सैकत सिन्हाप रॉय, प्रोफेसर एवं संयोजक, सेंटर फॉर एडवांस स्टाडीज, अर्थशास्त्र  विभाग, जादवपुर विश्वाविद्यालयकोलकाता;डॉ. सरत धल, निदेशक, अर्थशास्त्रई और नीति अनुसंधान विभाग, भारतीय रिज़र्व बैंक, कोलकाता;प्रोफेसर एन.आर. भानुमूर्ति, प्रोफेसर, नेशनल इंडस्टीाट्यूट ऑफ पब्लिक फायनेंस एंड पॉलिसी (एन आई पी एफ पी), नई दिल्लीए तथा प्रोफेसर सी. वीरामणि, प्रोफेसर, इंदिरा गांधी इंस्टी ट्यूट ऑफ डेवलपमेंट रिसर्च (आई जी आई डी आर), मुंबई शामिल हैं।

एक्ज़ि ‍म बैंक द्वारा अपने निरंतर शोध प्रयासों की कड़ी में भारत के निर्यातों का तिमाही आधार पर ट्रैक रखने तथा वृद्धिमें पूर्वानुमान के लिए एक्सतपोर्ट लीडिंग इंडेक्सर (ई एल आई) तैयार करने हेतु यह इन-हाउस मॉडल विकसित किया गया है। यह इंडेक्स देश के निर्यातों पर प्रभाव डालने वाले विभिन्न बाह्य एवं घरेलू कारकों को ध्या)न में रखते हुए इस मॉडल को देश के वस्तुु निर्यातों में तिमाही आधार पर वृद्धिव का पूर्वानुमान लगाने के लिए एक प्रमुख संकेतक के रूप में विकसित किया गया है। 

विस्तृत जानकारी के लिए कृपया संपर्क करें-
श्री डेविड सिनाटे, मुख्यn महाप्रबंधक/ डॉ. विश्वूनाथ जंध्याडला, मुख्यई प्रबंधक, शोध एवं विश्लेिषण समूह,
भारतीय निर्यात-आयात बैंक, केन्द्रक एक भवन,
21वीं मंजिल, विश्वn व्यानपार केन्द्रि संकुल, कफ़ परेड, मुम्बखई  400005
टेलीफोनः +91-22-2217 2701/ 2708/ 2711
फैक्सःन (022) 22182572,
ई-मेलः dsinate@eximbankindia.in/ viswanath@eximbankindia.in
वेबसाइटः  www.eximbankindia.in

एक्ज़िम बैंक ने भारत के वस्तुध निर्यात गत वर्ष की इस तिमाही की तुलना में वित्तीय वर्ष 2018 की चौथी तिमाही में 5.96 प्रतिशत से ज्यादा वृद्धि होने का अनुमान लगाया

प्रिंट करें

भारतीय निर्यात-आयात बैंक (एक्‍ज़ि‍म बैंक) के अनुमान के अनुसार भारत के वस्‍तु निर्यातों में गत वर्ष की अनुरूपी तिमाही की तुलना में वर्ष 2017-18 की चौथी तिमाही अर्थात जनवरी-मार्च 2018 के दौरान 5.96 प्रतिशत की वृद्धि होने की संभावना है। यह अनुमान, एक्‍ज़ि‍म बैंक के एक्‍सपोर्ट लीडिंग इंडेक्‍स (ई एल आई) मॉडल पर आधारित है, जो 11 अप्रैल 2018 को जारी किया गया। मॉडल के आधार पर (जिसका आधार वर्ष 2011-12 है), देश के निर्यातों के लिए एक्‍ज़ि‍म बैंक का लीडिंग इंडेक्‍स 2017-18 की चौथी तिमाही अर्थात जनवरी-मार्च 2018 में 113.56 हो गया। भारत के निर्यातों में वृद्धि के अनुमान को नियमित रूप से तिमाही आधार पर जून, सितम्‍बर, दिसम्‍बर तथा मार्च माह के पहले सप्‍ताह में जारी किया जाएगा। भारत के निर्यातों में अगला वृद्धि अनुमान 2018-19 की पहली तिमाही अर्थात अप्रैल-जून 2018 के लिए जून 2018 के पहले सप्ताह में जारी किया जाएगा।

इस एक्‍सपोर्ट लीडिंग इंडेक्‍स मॉडल तथा इससे प्राप्‍त परिणामों की समीक्षा विशेषज्ञों की एक स्‍थाई तकनीकी समिति द्वारा की गई है। इस समिति के सदस्‍यों में प्रोफेसर सैकत सिन्‍हा रॉय, प्रोफेसर एवं संयोजक, सेंटर फॉर एडवांस स्‍टडीज, अर्थशास्‍त्र विभाग, जादवपुर विश्‍वविद्यालय, कोलकाता, डॉ. सरत धल, निदेशक, अर्थशास्‍त्र विभाग एवं शोध नीति विभाग, भारतीय रिज़र्व बैंक, कोलकाता, प्रोफेसर एन.आर. भानुमूर्ति, प्रोफेसर, नेशनल इंडस्‍टीट्यूट ऑफ पब्लिक फाइनेंस एंड पॉलिसी (एन आई पी एफ पी), नई दिल्‍ली तथा प्रोफेसर सी. वीरामणि, प्रोफेसर, इंदिरा गांधी इंस्‍टीट्यूट ऑफ डेवलपमेंट रिसर्च (आई जी आई डी आर), मुंबई शामिल हैं।

एक्‍ज़ि‍म बैंक द्वारा अपने निरंतर शोध प्रयासों की कड़ी में तिमाही आधार पर भारत की निर्यात गतिविधियों का ट्रैक रखने तथा अनुमान लगाने के लिए एक्‍सपोर्ट लीडिंग इंडेक्‍स (ई एल आई) तैयार करने हेतु यह इन-हाउस मॉडल विकसित किया गया है। ई एल आई देश के निर्यातों के परिदृश्‍य का अनुमान लगाता है। देश के निर्यातों पर प्रभाव डालने वाले विभिन्न बाह्य एवं घरेलू कारकों को ध्‍यान में रखते हुए इस मॉडल को देश के वस्‍तु निर्यातों में तिमाही आधार पर वृद्ध‍ि का अनुमान लगाने के लिए एक प्रमुख संकेतक के रूप में विकसित किया गया है।  

कृपया विस्‍तृत जानकारी के लिए संपर्क करें-
श्री डेविड सिनाटे, मुख्‍य महाप्रबंधक/ डॉ. विश्‍वनाथ जंध्‍याला, मुख्‍य प्रबंधक, शोध एवं विश्‍लेषण समूह,
भारतीय निर्यात-आयात बैंक, केन्‍द्र एक भवन,
21वीं मंजिल, विश्‍व व्‍यापार केन्‍द्र संकुल, कफ़ परेड, मुम्‍बई  400005
टेलीफोनः +91-22-2217 2701/ 2708/ 2711
फैक्‍सः (022) 22182572,
ई-मेलः dsinate@eximbankindia.in/ viswanath@eximbankindia.in
वेबसाइटः  www.eximbankindia.in